Vishnu Bhagwan Ke 108 Naam

Vishnu Bhagwan Ke 108 Naam भगवान विष्णु के मंगलमय और कल्याणकारी नाम.

हेल्लो दोस्तों Vishnu Bhagwan Ke 108 Naam भगवान विष्णु सृष्टि के त्रिदेव में से एक देव है. जिन्हें सृष्टि का पालन हार.कहा जाता है. इसका मतलब है सृष्टि को नियंत्रित करने वाले.नियमित करने वाले.मान्यता है की भगवान धरतीपर ही. क्षीर सागर में रहते है.

पर उनका स्थान अभीतक मनुष्य की पहुँच से परे है.इस पोस्ट में इसी अद्भुत भगवान क्व १०८ नाम दिए गए है.जिनको पढने से आपकी जिंदगी की सारी परेशानिया मिट जायेंगी.तो भगवान विष्णु का नाम लीजिये और इस कल्याणकारी पोस्ट को पढना शुरू कीजिये.

Vishnu Bhagwan Ke 108 Naam भगवान विष्णु के १०८ कल्याणकारी नाम.

1.विष्णु
ॐ विष्णवे नमः।
जो हर जगह उपस्थित रहते है.

2.लोहिताक्ष
ॐ लोहिताक्ष नमः।
भगवान जिनकी आंखे लाला है.

3.शाश्वत
ॐ शाश्वत नमः।
जो कभी खतम नहीं होसकते.

4.प्रभूत
ॐ प्रभूत नमः।
धन और ज्ञान के दाता स्वामी.

5.भूतभव्यभवत्प्रभ
ॐ भूतभव्यभवत्प्रभवे नमः।
(तीनो काल) भूत, वर्तमान और भविष्य के स्वामी

6.ईशान
ॐ ईशान नमः।
ब्रह्मांड में हर जगह वास करने वाले.

7.मंगलपरम्
ॐ मंगलपरम् नमः।
सभी कार्यों के श्रेष्ठ कल्याणकारी.

8.श्रेष्ठ
ॐ श्रेष्ठ नमः।
ईश्वरों में सबसे महान, श्रेष्ठ.

9.ज्येष्ठ
ॐ ज्येष्ठ नमः।
सबसे बड़े प्रभु परमेश्वर.

10.प्राण
ॐ प्राण नमः।
धरती पर जीवन के स्वामी.

11.विक्रमी
ॐ विक्रमी नमः।
सबसे साहसी भगवान.पराक्रमी.

12.ईश्वर
ॐ ईश्वर नमः।
सबको नियंत्रित करने वाले.

13.क्रम
ॐ क्रम नमः।
सृष्टि में हर जगह जिनका वास है.

14.विक्रम
ॐ विक्रम नमः।
ब्रह्मांड को मापने वाले.

15.मेधावी
ॐ मेधावी नमः।
सर्वज्ञाता ईश्वर.

16.धन्वी
ॐ धन्वी नमः।
सर्वश्रेष्ठ धनुष- धारी

17.आत्मवान
ॐ आत्मवान नमः।
सभी मनुष्य में निरंतर वास करने वाले

18.कृति
ॐ कृति नमः।
सभी मनुष्यों को उनके कर्मों का फल देने वाले.

19.कृतज्ञ
ॐ कृतज्ञ नमः।
इंसान को अच्छाई और बुराई का ज्ञान दप्रदान करने वाले.

20.अह्र
ॐ अह्र नमः।
जो दिन की तरह चमकते है. तेज.

21.प्रजाभव
ॐ प्रजाभव नमः।
भक्तों की रक्षा और उनके अस्तित्व के लिए अवतार लेने वाले.

22.विश्वरेता
ॐ विश्वरेता नमः।
जिन्होंने ब्रह्मांड की रचना की.

23.प्रत्यय
ॐ प्रत्यय नमः।
जिन्हें ज्ञान का अवतार कहते है .

24.व्याल
ॐ व्याल नमः।
जो नाग द्वारा कभी पकड़े नहीं जाते.

25.श्रीमान्
ॐ श्रीमान् नमः।
सदैव लक्ष्मीदेवी के साथ रहने वाले

26.केशव
ॐ केशवाय नमः।
जिनके बाल सबसे सुंदर बाल वाले

27.सम्वत्सर
ॐ सम्वत्सर नमः।
सृष्टि का अवतार लेकर कल्याण करने वाले.

28. सिद्ध
ॐ सिद्ध नमः।
जो सब कुछ सिद्ध करने सकते है.

29. सर्वेश्वर
ॐ सर्वेश्वर नमः।
सम्पूर्ण सृष्टि के स्वामी.

30.अज
ॐ अज नमः।
जिनका कभी जन्म नहीं हुआ. अजन्मे भगवान.

31.सर्वदर्शन
ॐ सर्वदर्शन नमः।
जो दिव्य दृष्टी से सृष्टि में सब कुछ देख सकते है.

32.मनु
ॐ मनु नमः।
सृष्टि में निर्माण होने वाले सभी विचार के दाता.

33.त्वष्टा
ॐ त्वष्टा नमः।
किसी भी बड़े आकार को जी छोटा कर सकते है.

34.शिव
ॐ शिव नमः।
सदैव शुद्ध रहने वाले

35.स्थाणु
ॐ स्थाणु नमः।
हरपल स्थिर रहने वाले.

36.भूतादि
ॐ भूतादि नमः।
सजीवो को जीवन देने वाले

37.नारायण
ॐ नारायणाय नमः।
ईश्वर, परमात्मा

38.गरुडध्वजा
ॐ गरुडध्वजाय नमः।
गरुड़ पर सवार होने वाले, गरुड़ जिनका वाहन है.

39.अव्यय
ॐ अव्यय नमः।
हमेशा अविकारी ,अक्षय रहने वाले

40.पुरुष
ॐ पुरुष नमः।
सर्व श्रेष्ठ पुरुष.

41.साक्षी
ॐ साक्षी नमः।
ब्रह्मांड की सभी घटनाओं के साक्षी. जिन्होंने सभी घटनाये ब्रह्मांड की शुरुवात से होती देखि.

 42.क्षेत्रज्ञ
ॐ क्षेत्रज्ञ नमः।
क्षेत्र के ज्ञाता

43.हृषीकेश
ॐ हृषीकेशाय नमः।
जो सभी इंद्रियों के स्वामी.जीने वह नियंत्रित कर सकते है.

44.मधुसूदन
ॐ मधुसूदन नमः।
रक्षक मधु के विनाशक भगवान.

45.प्राणद
ॐ प्राणद नमः।
अभी प्राण देने वाले.

46.पवित्रां
ॐ पवित्राम् नमः।
सभीका हृदया पवित्र करने वाले.

47.त्रिककुब्धाम
ॐ त्रिककुब्धाम नमः।
सभी दिशाओं के भगवान

48.योग
ॐ योग नमः।
सर्व श्रेष्ठ योगी , योगियोंके स्वामी.

49.प्रतर्दन
ॐ प्रतर्दन नमः।
बाढ़ के विनाशक भगवान.

50.अग्राह्य
ॐ अग्राह्य नमः।
मांसाहार का त्याग करने वाले.

51. माधव
ॐ माधवाय नमः।
देवी लक्ष्मी के पति परमेश्वर.

52.शम्भु
ॐ शम्भु नमः।
सभी मनुष्यों को सजीवों को खुशियां देने वाले

53.आदित्य
ॐ आदित्य नमः।
देवी अदिति की संतान.

54.पुष्कराक्ष
ॐ पुष्कराक्ष नमः।
जिनके नेत्र कमल जैसे है.

55.मत्स्यरूप
ॐ मत्स्यरूपाय नमः।
भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार का नाम.

56.प्रभु
ॐ प्रभु नमः।
सर्वशक्तिमान परमेश्वर.

57.ईश्वर
ॐ ईश्वर नमः।
त्रिलोक के अधिपति.

58.विश्वकर्मा
ॐ विश्वकर्मा नमः।
अखिल ब्रह्मांड के रचयिता स्वामी.

59.स्थविरो ध्रुव
ॐ स्थविरो ध्रुव नमः।
पृथ्वी के प्राचीन देवता.

60.अच्युत
ॐ अच्युत नमः।
जो अचूक है.

61.वसुमना
ॐ वसुमना नमः।
जिनका हृदय सभी के लिए सौम्य है.

62.स्वयम्भू
ॐ स्वयम्भू नमः।
जो स्वयं प्रकट हुए है.

63.विधाता
ॐ विधाता नमः।
सृष्टि के कार्यों और परिणामों की रचना करने वाले

64.धातुरुत्तम
ॐ धातुरुत्तम नमः।
ब्रह्मा से भी भी अधिक महान

65.अप्रेमय
ॐ अप्रेमय नमः।
जो नियम व परिभाषाओं से परे है.

66.अमरप्रभु
ॐ अमरप्रभु नमः।
जो सदैव अमर है.जिनका कभी मृतु नहीं हो सकता.

67.लक्ष्मीपति
ॐ लक्ष्मीपतये नमः।
देवी लक्ष्मी के प्राणप्रिय,स्वामी

68.कृष्ण
ॐ कृष्णाय नमः।
जिनका रंग सावला है.

69.पद्मनाभा
ॐ पद्मनाभाय नमः।
जिनके पेट से जिव सृष्टि की उत्पत्ति हुई.

70.निधिरव्यय
ॐ निधिरव्यय नमः।
अमूल्य धन के समान.

71.सम्भव
ॐ सम्भव नमः।
सभी घटनाओं में स्वामी

72.भावन
ॐ भावन नमः।
भक्तों को सब कुछ प्रदान वाले.

73. योगाविदां नेता
ॐ योगाविदां नेता नमः।
सभी योगियों के स्वामी.योग विद्या जा पूरा ग्यान जिनके पास है.

74.भूतात्मा
ॐ भूतात्मा नमः।
ब्रह्मांड के सभी सजीवों के आत्मा में वास करने वाले.

75.पूतात्मा
ॐ पूतात्मा नमः।
शुद्ध छवि वाले परमेश्वर

76.परमात्मा
ॐ परमात्मा नमः।
सर्वश्रेष्ठ भगवान

77.मुक्तानां परमागति
ॐ मुक्तानां परमागति नमः।
सभी जीवों को मोक्ष प्रदान करने वाले,जन्म मरन के चक्र से मुक्त करने वाले.

78.वषट्कार
ॐ वषट्कार नमः।
यज्ञकर्म से प्रसन्न होने वाले.

79.सर्वयोगविनि
ॐ सर्वयोगविनि:सृत नमः।
जो सभी योगियों के योगी सभी के स्वामी है.

80. प्रधानपुरुषेश्वर
ॐ प्रधानपुरुषेश्वर नमः।
प्रकृति और प्राणियों के परमेश्वर.

81.नारसिंहवपुष
ॐ नारसिंहवपु नमः।
नरसिंह रूप धारण करने वाले, नरसिंह रूप में अवतार लेने वाले.

82.भूतभावन
ॐ भूतभावन नमः।
ब्रह्मांड के सभी प्राणियों का भरन-पोषण करने वाले.सबको पालने वाले.

83.भाव
ॐ भाव नमः।
जिनका अखंड अस्तित्व वाले

84.महास्वण
ॐ महास्वण नमः।
जिनका स्वर वज्र की तरह है.

85.अनादिनिधन
ॐ अनादिनिधन नमः।
जिनका ना कोई अंत है उगम.

86.धाता
ॐ धाता नमः।
सभी का समर्थन करने वाले

87.अमेयात्मा
ॐ अमेयात्मा नमः।
एक ऐसे भगवान जिनका कोई आकार नहीं है.

88.वृषाकपि
ॐ वृषाकपि नमः।
धर्म और वराह का अवतार लेकर जिन्होंने जगत का कल्याण किया.

89.भर्ता
ॐ भर्ता नमः।
सम्पूर्ण ब्रह्मांड के संचालक. सृष्टि के पालन हार.

90.उपेन्द्र
ॐ उपेन्द्राय नमः।
इंद्र भगवान के बड़े भाई

91.पुरुषोत्तम
ॐ पुरुषोत्तम नमः।
जो पुरुषो मे सर्व श्रेष्ठ पुरुष.

92.सर्व
ॐ सर्व नमः।
परिपूर्ण जिसमें सब चीजें समाहित है.

93.शर्व
ॐ शर्व नमः।
बाढ़ में सब कुछ विनाश करने वाले.

94.चतुर्भुज
ॐ चतुर्भुजाय नमः।
चार भुजाओं वाले. जिनके चार हाथ है.

95.प्रभव
ॐ प्रभव नमः।
सभी चीजों में उपस्थित होने वाले. सृष्टि के कण कण में जिनका निवास है.

96.अग्राह्य
ॐ अग्राह्य नमः।
जिन्होंने मांसाहार का त्याग किया है.

97.भूगर्भ
ॐ भूगर्भ नमः।
खुद के भीतर पृथ्वी,सृष्टि का वहन करने वाले.

98.प्रजापति
ॐ प्रजापति नमः।
सभी के मुखिया.

99.सममित
ॐ सममित नमः।
सभी जिव सृष्टि में असीमित रहने वाले

100.समात्मा
ॐ समात्मा नमः।
जो सभी के लिए एकसामन है.

101.सत्य
ॐ सत्य नमः।
जो हमेशा सत्य का समर्थन करते है.

102.वसु
ॐ वसु नमः।
जो सभी सजीव प्राणियों में निरंतर रहते है.

103.शरणम
ॐ शरणम नमः।
सभी को अपनी शरण में लेने वाले.

104.सुरेश
ॐ सुरेश नमः।
सभी देवों के देव.

105.दुराधर्ष
ॐ दुराधर्ष नमः।
सफलतापूर्वक हमला न करने वाले.

106.अनुत्तम
ॐ अनुत्तम नमः।
सबसे श्रेष्ठ ईश्वर.

107.सर्वादि
ॐ सर्वादि नमः।
इस विश्वकी सभी क्रियाओं के प्राथमिक कारण

108.सिद्धि
ॐ सिद्धि नमः।
सृष्टि के सभी कार्यों के प्रभाव देने वाले.

नमश्कार दोस्तों आपको हमारी “vishnu bhagwan ke 108 naam”यह ब्लॉग पोस्ट कैसी लगी यह कमेंट करके जरुर बताये. और अपने प्रिय जानो को विष्णु भगवान के १०८ नाम और उनका अर्थ जरुर भेजे.

Thank you for reading vishnu bhagwan ke 108 naam blog post please comment below that how much you like this post. and please share this vishnu bhagwan ke 108 naam blog post your loved one.

हमारी और भी बहतरीन ब्लॉग पोस्ट्स

सबसे अधिक लोकप्रिय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *