Short Stories With Moral Values In Hindi

लघु शिक्षाप्रद कहनिया Short Stories With Moral Values In Hindi

Short Stories With Moral Values In Hindi इस पोस्ट में लिखी गई सभी कहानिया. बच्चों को प्रतीत करने के साथ साथ उनका मनोरंजन करने वाली है. इन सभी कहनियो को पढने से से उम्र बड़े लोग भी प्रतीत होंगे.

इनसभी कहनियो में आसान भाषा का प्रयोग किया गया है. जिससे बच्चो को पढने और समझ ने में आसानी होगी.यह सभी Short Stories With Moral Values In Hindi पूरी तरह से नयी है जो आपने कभी पढ़ी नहीं है.

1  बाज का हौसला Short Stories With Moral Values In Hindi

वह सबसे उंची जगह का घोसला था. उसमे दो अंडे थे. वह घोसला इतनी उंची और छुपी जगह पर था की उस जगह किसी और पशु का पहुचं पाना असंभव था. क्योंकि वह घोसला एक बाज का था.

वह बाज अपने अंडो से चूजे निकलने का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रही थी. और वह दिन आही गया जब अंडो से दो नन्हे पर शक्तिशाली बाज के चूजे निकले.

कुछ महीनो के बाद जब वह बच्चे उड़ने के काबिल हुए. तब उनकी माँ ने उन्हें उड़ना सिखाना शुरू किया. बच्चे धीरे-धीरे तेज हवा से लढते-लढते उड़ना सीख रहे थे. तभी अचानक तेज बारिश शुरू होगई.

दोनों बच्चे बारिश से डर कर एक चट्टान के कोने में जाकर बैठ गए. पर उनकी माँ वह अभी भी उस बारिश में उड़ रही थी. बच्चों ने माँ से कहा. माँ बारिश में तुम्हारे पंख भीग जायेंगे. आओ यहा हमारे साथ बैठ जाओ.

माँ ने कहा नहीं मेरे प्यारे बच्चों तुम मेरे साथ आसमान में चलो. मै तुम्हे आज एक बाज होने का असली मतलब समझती हूँ. और वह बच्चों को लेकर बादल के भी ऊपर उड़ने लगी जहा बारिश का पाणी नहीं था.

माँ बोली बच्चों बाज बारिश या अंधी से डर ते नहीं वह बादल के भी ऊपर उड़ते है. यही हमारा बुलंद हौसला है. यही हमे एक बाज बनाता है.

मोरल : दोस्तों इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है. की जीवन में आने वाली किसी भी कठिनाई या संकट से हमे डरना नहीं है. हमे हमारे लक्ष की ओर बढ़ते रहना है. हमारे बुलंद हौसले से ही एक दिन हमे हमारी पहचान देंगे.

और कहानिया पढ़े बच्चों की मनपसंद 35+Best Moral Stories In Hindi

2  सफलता की सलाह Short Stories With Moral Values In Hindi

कुमार नाम के नौजवान ने नया-नया व्यापार शुरू किया था. उसे व्यापार के विषय में कुछ भी अनुभव नहीं था. इसलिए वह व्यापार में काफी नुकसान झेल रहा था.

एक दिन उसे एहसास हुआ की मुझे किसी और व्यापारी की सलाह लेनी चाहिए. जिससे मेरे व्यापार में मुझे फायदा होसके.तभी उसे याद आया की उसके मित्र संपत ने भी उसके साथमें ही व्यापार शुरू किया था.

क्यों न उससे ही सलाह लीजये.फिर कुमार उसी दिन संपत के पास सलाह लेने पहुचं गया. संपत एक बड बोला इंसान था. उसने कुमार के साथ बहुतसी इधर उधर की बाते की और अंत में व्यापार के विषय में कुछ सलाह दी.

कुमार ने संपत की व्यापारी सलाह पर अमल भी किया. पर कुमार का व्यापार अभी भी घाटे में ही जा रहा था. अब कुमार को कुछ समझ में नहीं आ रहा था.

फिर कुमार को अपने एक पुराने दोस्त शिरीष की याद आयी. जो वही व्यापार 10 साल से कर रहा था. वह एक सफल व्यापारी भी था.

कुमार ने ज्यादा समय न गवाते हुए शिरीष की सलाह ली. शिरीष ने बडिही आसान और सरल भाषा में कुमार को व्यापारी सफलता के नुस्खे बताये.

जिनपर अमल करने से कुमार को कुछ ही महीनो में व्यापार में फायदा होने लगा.

मोरल : दोस्तों सफलता की सलाह होमेशा सफल और अनुभवी लोगों से ही लेने चाहिए. बडबोले लोग हमे भटकाते है और हमारा समय बर्बाद करते है.

3  आलस्य की सजा Short Stories With Moral Values In Hindi

एक रात बिरजू किसान देर से घर लौटा. वह बहुत थका हुआ था. इसलिए घर आतेही वह सो गया. रातको उसकी नींद उसकी कुतिया सुंदरी के भौंकने की आवाज से टूटी.

कुतिया बहुत भौंक रही थी. बिरजू बहुत नींद में था. इसलिए उसने सुंदरी के भौंकने का कारण जानने की कोशिश भी नहीं की.

लेकिन उसकी नीदं बार बार खराब हो रही थी. इसलिए गुस्से में आकार बिरजू ने पास ही पड़ी कुल्हाड़ी उठाई. और आवाज की दिशां में सुंदरी को दे मारी.

सुंदरी खामोश हो गई. बादमे सुबह जब बिरजू की नीदं खुली. तब घर की हालत देखकर वह दंग रह गया.

क्योंकि उसके घर की सारी कीमती चीजे रात को चोरी हो गई थी. और उसके सामने ही सुंदरी मरी पड़ी थी. जिसे रातको उसने कुल्हाड़ी फैंक के अपने हाथो से मारा था.

Short Stories With Moral Values In Hindi

मोरल: कोई भी जरुरी काम करने में कभी आलस नहीं करना चाहिए. आलस की बुरी आदत से एक ना एक दिन हमे बड़ा नुकसान झेलना पड सकता है.

7 नैतिक व मनोरंजक कहानिया Moral Stories In Hindi For Class 5

4  स्वर्ग और नरक में अंतर Short Stories With Moral Values In Hindi

त्रिलोक का भ्रमण कर आये अपने गुरु से एक शिष्य ने पूछा की गुरूजी. क्या आपने स्वर्ग और नरक देखा. वह कैसा दीखता है. और वहा के लोग कैसे है. गुरु जी ने भी अपने शिष्यों की इच्छा पूरी करने के लिए. उन्हें अपना अनुभव बताना शुरू किया.

गुरूजी बोले:

मै जब त्रिलोक भ्रमण कर रहा था. तब सबसे पहले मै नरक में गया था. उसवक्त उनके भोजन का समय चल रहा था. मैंने देखा की एक बड़े से पात्र में खीर रखी थी. और उसे खाने के लिए वहा के लोग को बड़े लम्बे लम्बे चमच दिए गए थे.

जिस वजह वह लोग खीर खा नहीं पा रहे थे. खाने के समय में बड़ी मुश्किल से वह एक दो चमच खीर पी सके और बाद में नरक निवासी भगवान को दोष देते हुए चले गए.

और मै जब स्वर्ग में गया था. तब मै स्वयं खाने के समय तक रुका.उसवक्त मैंने देखा की वहापर भी सभी लोगो को एक बड़े से पात्र में खीर परोसी गई थी और सबको वही बड़े लम्बे लम्बे चमच दिए थे.

पर वहां के स्वर्ग निवासी उन बड़े बड़े चमच से खुद खाने की बजाय. सामने वाले को खिला रहे थे. जिस वहज से अंत में सबने पेट भर के खीर खायी और जाते वक्त ईश्वर को धन्यवाद देकर चले गये.

Short Stories With Moral Values In Hindi

मोरल: अगर हम दुसरो के प्रति सम्मान और आदरभाव रखना समझते है. तो उसीसे यह धरती स्वर्ग बन जाएगी.

5  मुर्ख तोता Short Stories With Moral Values In Hindi

एक दिन एक धनवान सावकार बाजार में घुमने गए थे.वहापर उन्हें एक तोता बहुत पसंद आया. सावकार ने उसे तुरंत खरीद लिया.

वह तोता बहुत ही मजाकिया था. हमेशा सावकार को कोई न कोई चुटकुला सुनाकर हसता था.

एक रात सावकार की हवेली में डाकू घुस गए. वह सावकार को मारकर उसकी संपत्ति हडपना चाहते थे.

घर में डाकुओं की भनक लगते ही. सावकार उसके सोने के कमरे में ही बने. एक गुप्त तहखाने  में छुप गए. उसवक्त तोता भी वहापर था. इसलिए सावकार ने छुपते वक्त. उसे चुप रहने के लिए कह दिया था.

कुछ ही मिनीटो में डाकू सावकार के कमरे में दाखिल हुए. पर उन्हें सावकार नहीं दिखे. तभी एक डाकू ने तोते को देखकर उससे बाते करना शुरू किया.

उसने सहज ही मजाकिया अंदाज में तोते से पूछलिया की सावकार कहा है.

तोता बोला सावकार ने कहा है. की मै गुप्त तैखाने में में छुपा हूँ. यह बात किसी को नहीं बताना. सावकार के ठिकाने का पता चलते ही. डाकुओं ने कमरे में तैखाना दुंड निकाला और सावकार से तिजोरी की चाबी लेकर उसे मरडाला.

Short Stories With Moral Values In Hindi

मोरल : मूर्ख मित्र की अपेक्षा विद्वान्‌ शत्रु बेहतर होता है. मुर्ख कितना भी मजाक करे. वह आखिर में नुकसान ही करता है.

इसे भी पढ़े –लोभी चंपकलाल Short Story On Naitik Shiksha In Hindi

6  समझदार चिंटू Short Stories With Moral Values In Hindi

चिंटू एक समजदार लड़का था. एक दिन वह तेज बुखार की वजह से वह स्कूल नहीं जा पाया. चिंटू के पिताजी उसे शहर के अस्पताल में लगाये.

डॉक्टर ने बताया. चिंटू को मलेरिया हुआ है. फिर चिंटू को कुछ दिनों के लिए अस्पताल में ही भर्ती कराया गया. फिर जब चिंटू अस्पताल से घर लौट रहा था. उसने डॉक्टर से पूछा. मलेरिया फैलने के क्या-क्या करना है?.

उसे डॉक्टर ने मलेरिया फैलने के सभी करना बतादिए. स्वस्थ होकर घर आने के बाद चिंटू ने उसकी कॉलोनी के सभी दोस्तों को इक्कठा किया. और पूरी कॉलोनी की सफाई की छोटे छोटे पानी के गड्डे भर दिए.

कूडा कचरा ,गाड़ी के टायर सभी बेकार चीजे कचरे वाली घंटा गाड़ी में डाल दिए. और आखिर में चिंटू ने सभी बच्चों के साथ मिलकर मलेरिया पर रोक लगाने के नारे लगाये.

चिंटू की मेहनत और समझदारी देख कॉलोनी के सभी लोंगो ने उसके लिए तालिया भी बजाई.

इस तरह समझदार चिंटू ने एक बार बीमार पडने पर समाज में मलेरिया पर रोक लगाने सन्देश दिया. Short Stories With Moral Values In Hindi

7  साहसी खरगोश Short Stories With Moral Values In Hindi

एक जंगल में पिंटू नाम का एक छोटा खरगोश रहता था. उसकी माँ उसकी रोज की शरारतो से तंग आगई थी. एक दिन श्याम को पिंटू घूमते घूमते घर से दूर चला गया.

और वहां से वापस लौटने का रास्ता भी भूल गया. अब वह डरा सहमा सा एक पेड़ के निचे रोते हुए बैठा था. तभी उसे उसके माँ की आवाज सुनाई दी. वो सुनकर पिंटू खुश हो गया.

पिंटू की माँ वहां उसे घर लेजाने आयी थी. तभी अचानक वह एक लोमडी आगई. वह अब बस उन्हें मारने ही वाली थी की. पिंटू की माँ ने लोमड़ी की पैर पर कस के काट लिया.

जिस वजह से लोमड़ी कराह उठी. खरगोश के काटने से लोमडी अब और गुस्से में आगई थी. अब वह बस दोनों पर झपटने ही वली थी की.

तभी वहां पर खरगोश का झुंड पिंटू और उसकी माँ को ढूंढते हुए आ गया. इतने सारे खरगोश को गुस्से में देखकर वह चलाख लोमड़ी दूम दबाकर भाग गई. इस तरह छोटे से खरगोश के झुंड ने अपने साहस का परिचय दिया.

Short Stories With Moral Values In Hindi

सीख:साहस दिखाने के लिए सिर्फ एक निडर सोच की जरूरत होती है.बड़े आकार का शरीर कुछ नहीं होता.
सीख: एकजुट होकर कौनसी भी मुसीबत का सामना कर सकते है.

बाल कहानियां Top 3 Hindi Short Stories For Class 1

8  बंदरों की एकता Short Stories With Moral Values In Hindi

सुंदरबन के घने जंगल में, मिंकू, पिंकू, और चिंकू नामके 3 नटखट बंदर रहते थे. वह तीनों बहुत घनिष्ट मित्र थे. जहाँ भी जाते साथ मिलकर जाते थे. जो भी फल मिलता आपस में मिल बाट कर खाते थे.

जंगल के सभी प्राणी उनकी दोस्ती की तारीफ किया करते थे. एक दिन तीनो दोस्त फल खाने के लिए जंगल की सबसे बड़ी पहाड़ी पर गए थे. सुंदरबन की वह पहाड़ी अपने दल-दल के लिए भी मशहूर थी.

उसी दल दल के ऊपर के पेड़ों पर तीनो फल तोड़ रहे थे.तभी मिंकू डाल टूटने से अचानक दल-दल में जा गिरा. मिंकू को दल दल में गिरा देख. पिंकू उसे हाथ देने पेड़ की डाल से झूल गया.

पर डाल इतनी कमजोर थी. की वह थोड़े से वजन से ही टूट गई. और पिंकू भी दल-दल में गिर गया. वह दोनों डर गए और बाहर निकलने के लिए झट पटाने लगे शोर मचने लगे.

इस वजह से वह दोनों दल-दल में धीरे-धीरे और धस रहे थे. चिंकू उम्र में उनसे बड़ा था.और समजदार भी. उसने सबसे पहले दोनों को शांत रहने के लिए कहा. ताकि दोनों और कीचड न फसे.

फिर चिंकू ने एक युक्ति लड़ाई उसने नजदीक के एक पेड़ से मजबूत बेल तोडके उनके पास डाल दी. और मिंकू, पिंकू ने उसे कसकर पकडलिया. फिर चिंकू ने उन दोनों को धीरे धीरे ऊपर खीचं लिया.

इस तरह चिंकू की होशियारी और धीरज की वजह से दोनों की जान बज गई.

मोरल – सकंट समय में हमेशा धीरज और होशियारी से काम लेना चाहिए.

इसे भी पढ़े परिपूर्ण नैतिक कहानियाँ Short Moral Stories For Kids In Hindi

9  चरवाहा और जंगली पशु Short Stories With Moral Values In Hindi

ताडोबा के जंगल में एक केशव नाम का चरवाहा रोज अपनी गाय चराने जाता था. केशव को गाय चरते वक्त बांसुरी बजानी अच्छी लगती थी.

वह प्रति दिन बांसुरी पर नइ नइ धुन बजता था. केशव के बांसुरी की धुन सुनकर उसकी गाय के साथ जंगल के अन्य जानवर भी उसके पास आकर बैठ जाते थे.

इसकी वजह से केशव जंगल के सभी जानवरों का अच्छा दोस्त बज चूका था. केशव अपना खाना भी जंगल के प्राणियों में बांटकर खाया करता था.

इस तरह जंगल के बहुतसे पशु केशव से प्रेम करने लगे थे. एक दिन केशव जंगल में गाय चरा रहा था.

तभी उसे प्यास लगी और वह तालाब पर पानी पिने के लिए चला गया. बहुत देर हुई केशव पानी पीकर लौटा नहीं. ये देखकर कुछ हिरन और गाय उसे ढूंडने तालाब पर गए.

तालाब पर जाते जाते उन्हें दिखा की केशव रस्ते में ही बेहोश पड़ा था .और उसके पैर पर साप के डसने का निशान है. ये देखर एक हिरन ने तुरंत एक चिडिया को भेजकर बंदरों के वैद्य को बुलवाया.

उन्होंने आतेही केशव के जखम पर पेड़ के पतियों की जडीबुटी लगाई. जिससे वह कुछ ही मिनटों में होश में आगय. और जडीबुटी के असर से सांप का जहर भी उतर गया.

इस तरह जंगल के प्राणियों ने कुदरत के सहारे केशव की जान बचाई.

मोरल – इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है की अगर हम कुदरत का सम्मान करेंगे तो कुदरत भी हमारा रक्षाण करेगी.

और पढ़े Short Stories With Moral Values In Hindi

सबसे अधिक लोकप्रिय

One thought on “लघु शिक्षाप्रद कहनिया Short Stories With Moral Values In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *