दिल छूनेवाली प्रेम कहानियाँ – Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

Here I am sharing lovely Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi . you must comment after reading which one Love Story is best. इस पोस्ट में दी गई लव स्टोरीज आपको सच्चे प्यार के बारे में अनमोल बाते सिखाएंगी. और यह भी बात साफ जाहिर है. की सच्चे प्यार की कोई उम्र नहीं होती. प्यार आखरी साँस तक किया जाता है.    

1) कृष्ण का पहला प्यार Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

यह मेरी लिखी है. इस ब्लॉग की सबसे पहली. लव स्टोरी है. जो की बच्चपन में होने वाले प्यार के बारे में है. इसमें एक लड़की(बच्ची) के रूह (आत्मा) की ख्वाइश के बारे में लिखा गया है. छोटीसी पर सुंदर प्रेम कहानी है. जरुर पढ़े. और इस पोस्ट में और भी प्रेम कहानिया है जो आपके दिल को छुकर सच्चे प्यार का एहसास करा सकती है.      

यह कहानी तबकी है. जब हम न्यू सोसाइटी में शिफ्ट हुए थे. और में अपने फाइनल एग्जाम का आखरी टेस्ट पेपर देकर. दोपहर के वक्त घर  लौट रहा था. वह सोसाइटी मेरे लिया नई थी. में वहापर  किसीको भी नहीं जनता था.

बस दो दिन पहिले ही हम शिफ्ट हुए थे. चलते चलते रास्ते में मुझे किसी लड़की ने पीछेसे. आवाज़ दी. Hiii कृष्णा कैसे हो तुम. मेने पीछे मुडके देखा तो एक सुंदर लड़की खड़ी थी. मैंने उससे पूछा कोण हो तुम. और मेरा नाम कैसे जानती हो. वह बोली तुम्हारी मम्मी और तुम्हे मैंने बात करते सुना था. तब मुझे तुम्हारा नाम पता चला.

वो मेरे पास आयी और मुजसे हैंडशेक किया. उसका नाम उसने मीरा बताया. मुझे उसकी आवाज़ अच्छी लगी थी. फिर हम बात करते हुए. सोसाइटी के मेन गेट तक गए. वह  बोली की में डी विंग बिल्डिंग नंबर 18. फ्लैट नंबर 203 में रहती हूँ. मेरे सारे फ्रेंड्स गर्मी की छुटी का लिया गाँव गये है. क्या में तुम्हारे साथ खेलने आ सकती  हूँ. 

Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

मैने कहा ज़रूर क्यों नहीं जरुर आओ हो. वैसे मै भी यहाँ नया हूँ. और मेरी बिल्डिंग के बचे भी गाँव चले गए है. उपरसे मैं यहाँ किसी को जानता भी नहीं. तुम 5 बजे आ जाना हम गार्डन में टेनिस खेलेंगे. वह खुश हो कर घर चली गई. और फिर मैं इंतज़ार करने लगा 5 बजने का. मै 4: 30 बजे ही टेनिस रैकेट लेकर गार्डन में पहुँचा. लेकिन मीरा मुझसे पहले आकर वहां बेंच पर बैठी थी.

 

मै उसके बाजु में जाकर बैठा. और पूछा कि तुम कबसे यहापर बैठी हो. वह बोली जस्ट अभी आई हूँ. तुम भी बड़े जल्दी आ गऐ. चलो हम टेनिस खेलते है. फिर हमने हसी मज़ाक करते हुए टेनिस खेला. वो कफी अच्छा टेनिस खेल लेती थी. बादमे हमने थोड़ी देर बैठके बाते की. मैंने मीरा से पूछा कि तुम्हे क्या-क्या पसंद है. उसने बताया कि उसे टेनिसी पसंद है. पुराने गाने सुनना पसंद है. और खाने में सबसे ज्यादा  चावल की खीर पसंद है. पूरा पतीला चाट कर जाती है.

फिर हम रोज़ गार्डन में ही मिलने लगे. मैं कभी-कभी मीरा के लिये. अपनी मम्मी से चावल की खीर बनवाकर ले जाता था. वह बड़े मजेसे खाती और मेरी मम्मी की तारीफ करती थी. मीरा अब मुझे बहुत अच्छी लगने लगी थी. क्योंकि मुझे उससे  प्यार जो होगया था. पर एक दिन अचानक  मीरा  नहीं आयी. उस श्याम मै 8 बजे तक गार्डन में अकेले ही उसका इंतज़ार करता रहा. फिर उदास होकर घर वापस लौट गया. घर पहुचकर उसीके बारे में ही सोचता रहा. कि मीरा आज मुझसे मिलने क्यों नहीं आयी. फिर उस रात  मेरे साथ एक अजीब घटना घटी.

वह मेरे सपने में आयी और बोली. तुम्हारे साथ वक़्त बिताकर मुझे अच्छा लगा कृष्णा. अब मेरा जाने का समय हो गया है. मुझे मुक्ति दो कृष्णा. मुक्ति दो… मैं सुबह ही 3: 30 बजे डरके मारे उठा. तब  मै पसीने से नहाया हुआ था. मुझे लगा कि मैं उसके बारे में कुछ ज्यदा सोचने लगा हूँ. फिर दुसरे दिन भी मैंने उसका इंतजार किया फिर भी वह नहीं आयी. उसकेबाद से मीरा हर रात मेरे सपने में आने लगी. और बार-बार एक ही शब्द मुक्ति दो कृष्णा. मुक्ति दो कृष्णा.

फिर मैने सोचा कि आज वह आये या नहीं. आये मैं उससे मिलने उसके घरपर  जाऊंगा. मैने मम्मी मीरा के लिए खीर बनवा ली. और श्याम होने से पहले ही. उसेक बताये हुए एड्रेस पर पंहुचा. और डोर बेल बजाई. दरवाज़ा एक बुज़ुर्ग आदमी ने खोला. उन्होंने पूछा तुम्हे किस्से मिलना है बेटा. मैंने मीरा का नाम बताया. उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया. में जाकर सोफे पर बैठा और खीर का डिब्बा बुज़ुर्ग के हाता में दिया. और कहा ये मीरा के लिय है. कहा है वह मुझे उसे मिलना है.

और पूछा दो दिन हए. वह पार्क में खलने नहीं आयी. वो बुज़ुर्ग शांत मुद्रा में मेरे सामने सोफे पर बैठे और बोले. 14 अप्रैल आज के ही दिन 1 साल पाहिले मीराकी मौत हुई थी. वह  मेरी गोद ली हुई बेटी थी. उसे जनम से HIV AIDS था इसलिए किसी बचे के मम्मी पापा. उसके साथ अपने बच्चो को खलने नहीं देते थे.

वह  घर पर अकले ही बैठे रहती थी. उसे हमेशा लगता था. उसके साथ भी कोई खेलने आये. पर यह कभी संभव ना होसका. और  आखिर में पिछले साल उसकी मौत हो गई. मीरा की  कहानी सुनने के बाद मेरी आंखे छलक गई. फिर मैने  उस बुज़ुर्ग को  अब तक की सारी हक़ीक़त बताई और मुझे आने वाले सपनो के बारे में भी बता दिया. वह बोले शायद आज तुमने उसकी आखरी ख्वाइश पूरी की है. और यहाँ उसके दोस्त बनकर उसे मुक्ति देने पहुंच गए हो.

थोड़ी ही देर में वंहा पंडित जी आये और उसकी आत्मा कि शांति के लिया एक पूजा हुई. उसके दादाजी ने वह पूजा मेरे हाथो  से करवाई ताकि उसकी आत्मा को मुक्ति  मिल सके फिर उन्हें good bye बोलके में घर वापस लौट आया.

2) एक तलाश सच्चे प्यार की – Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

 

उसरात अचानक धीमी धीमी बारिश होने लगी थी. अहान जॉब से घर आते वक्त रस्ते मे एक छोटी चाय की दुकान पर. चाय की एक चुस्की लेने के लिए रुका था.

उसने अपनी नइ बाइक दुकान के ठीक सामने पार्क की थी. जहाँ छत थी. ताकि बारिश में बाइक भीगे नहीं. फिर वह चाय के प्याले से चुस्कियां लेते हुए. अपनी नइ बाइक को बड़े प्यार से देखरहा था.

तभी उसके उदास मन में एक खयाल कूद पडा. मुझे नौकरी मिलगई. मैंने नइ बाईक भी खरीदी ली. पर इस बाइक के पीछे बैठेने वाली अभी तक नहीं मिली.

वह अगर मिल जाये तो मुझ जैसे अकेले रहनेवाले. अनाथ की जिन्दगी में बहार आजये. तभी अचानक बारिश में भीगते हुए. एक लड़की उस दुकान में आयी और अहान की बाइक के पास खड़ी हो गई. Emotional love story in hindi

उसने बाइक की पिछली सिट पर बैग रखा. और अपनी भीगी ओढनी से बारिश का पानी निचोड़ने लगी. उस लड़की ने लाल रंग की सलवार कमीज पहनी थी.

और उसपर एक सुंदर सी नकाशी वाली ओढनी थी. उसे देखकर अहान की धड़कने मानो कुछ देर के लिए रुकसी गई थी. वह उसकी तरफ ही देखे जा रहा था.

बारिश में भीगे हुए उसके काले घने बाल. ऐसे लग रहे थे. कि मानो रेशम के धागे हो. वह बाइक के आईने देखते हुए. खुद को सवारने में लगी थी.

उसे आस पास की दुनिया का जराभी खयाल नहीं थी. वह दिखने में इतनी सुंदर थी. की अहान उसपर से अपनी नजरे हटा नहीं पा रहा था.

आखिर में लड़की ने बैग में से एक बिंदी निकली और बाइक के आईने में देखते हुए. धीरे से अपने माथे पर लगा दी. अहान ने उस लड़की के साथ बात करने का मन बना लिया था.

तब तक बारिश भी रुक चुकी थी. अहान ने जल्दी-जल्दी चाय का कप रखा और छोटू को पैसे दिये. ताकि वह सुंदरी कही निकल न जाये और वह उससे बात कर सके.

पर तभी अहान के कानो पर भारी आवाज पड़ी. कोई आदमी बाइक का हॉर्न बाजते हुए. आकृति -आकृति नामसे पुकार रहा था. और उस भारी आवाज को उस सुंदर लड़की ने जवाब दिया. अति हूँ मामाजी.

और वह बैग उठाकर दौड़ते हुए  उस बाइक के पीछे  जाकर बैठ  गई. और वहां से चली गई . अहान ने सोचा इतनी जल्दी  जल्दी मै उसे रोककर बात तो नहीं कर पाया.

पर चलो शहजादी का नाम तो पता चला आकृति. आकृति के खयालो में उस रात अहान को नींद नहीं आरही थी. इसलिए वह सुबह लेट उठा और ऑफिस भी लेट पहुंचा.

इस वजह से बॉस ने भी उसे दो चार ताने मर ही दिए. पर वह भी उसने मन ही मन हसंते हुए सुन लिए. क्योंकि उसे बॉस में भी उसकी प्रेमीका आकृति नजर आ रही थी. हां जैसे फिल्मो में होता है वैसे ही.

अहान ऑफिस में अपनी जगह पर. कुछ फाइल्स चेक कर रहा था. तभी अचानक से उसकी किस्मत के सितारे चमक गए. और उसके दिल की मुराद पूरी हो गई. क्योंकि उसके बगल वाली खाली जगह पर आकृति आकर बैठ गई.

अहान को समझ में नहीं आ रहा था. की यह सपना है या सच. पर उसि वक्त  सिनिअर अफसर  माथुर साहब आये. और बोले अहान ये तुम्हरे बगल बैठी हुई मोहतरमा.

आजसे नीरज की जगह संभालेगी. आज कंपनी में इनका पहला दिन है. तुम दोनों आपस में परिचय करलो. मुझे तत्काल कही बाहर जाना है.

इतना कहकर वह जल्दी जल्दी में निकल गए. आकृति ने अहान की तरफ हाथ बढाया. पर उसके कुछ कहने से पहले ही.

अहान बोल पड़ा “आकृति” आकृति है ना तुम्हारा नाम. वह बोली हाँ पर आपको कैसे पताचला. मैने तो ऑफिस में किसीको अपना नाम बताया भी नहीं है. फिर आहन ने मुस्कुराते हुए.

कल रात चाय की दुकान पर घटित. वह किस्सा आकृति को सुना दिया. अहान ने जिस अंदाज एक्टिंग करके. आकृति को वह  सुनाया.

उसे सुनकर आकृति हंस पड़ी. फिर अहान ने आकृति को उसके पद की सारी जिम्मेदारी समझा दी. श्याम को घर जाते वक्त आकृति.

ऑफिस बिल्डिंग से निचे किसी का इंतजार करते हुए खड़ी थी. उसे देखकर अहान अपनी बाइक लेकर उसके पास आकर रुका. और पूछा किसका इंतजार हो रहा हो.

और प्रेम कहानी पढ़े  Success Love Story In Hindi 

आकृति ने कहा मेरी सहेली मुझे लेने आ रही है. अहान ने कुछ देर उसके साथ खड़े रहकर बाते की. और बादमे वहा से चला गया.

वह पहले ही दिन आकृति को कुछ बोल नही पाया. इसी तरह दिन गुजरने लगे ऑफिस में अहान आकृति की रोज हेल्प किया करता था.

आकृति को मानो अहान की आदत सि हो गई थी. वह दोनों साथ में ही चाय पीते , लंच करते. अहान के ध्यान में हमेशा आकृति ही रहने लगी थी.

वह उससे अपने प्यार का इजहार करने के लिए. सही समय का इंतजार कर रहा था. लेकिन उसे वह मिल नहीं रहा था. आकृति को हर रोज कोई न कोई लेने आता था.

या फिर वह बस से घर चली जाती थी. अहान ने उससे कईदफा पूछा भी था. क्या में तुम्हे घर पर ड्रॉप करदूं? पर उसने हर बार मना कर दिया था.

पर एक दिन किस्मत अहान पर मेहरबान हो गई. अहान की शिफ्ट 1 घंटा बढ़ा दी गई थी. इसलिए वह ऑफिस से लेट बाहर निकला.

और निचे देखा तो आकृति रोज की तरह ऑफिस से समय पर निकल चुकी थी. पर वह अभी भी ऑफिस के सामने वाले बस स्टॉप पर ही खड़ी थी.

वहां पर ना बस आयी थी. न उसकी कोई दोस्त उसे लेने आयी. अहान ने फटाफट बाइक निकली. और उसके पास जाकर खड़ा हुआ.

और बोला अब तो चलो. फिर आकृती भी मुस्कुराते हुए. बाइक पीछे आकार बैठ गई. और जब उसने ने अहान के दाहिने कंधे पर हाथ रखा.

तब अहान को ऐसा लगा की. उसे सारा जहाँ मिल गया हो. अहान ने तुरंत उसे प्रोपोज करने की ठान ली. और वहीपर बाइक रोकी जहाँ उसने पहली बार आकृति को देखा था.

आकृति बाइक को बीच में रुकाने पर भी कुछ नही बोली थी. वह भी उसके साथ उस चाय की दुकान में जाकर बैठ गई. तभी अहान ने आकृति का हाथ अपने हाथ में लिया.

और एक घुटने पर बैठकर कहा आय लव यू आकृति. मै तुमसे बहुत प्यार करता हूँ. आकृति भी अहान को मन ही मन चाहती थी. इसलिए वह भी आय लव यू टू कहकर उसके सिने से लिपट गई.

उस दिन के बाद अहान आकृति को रोज उसकी सोसाइटी के नजदीक ड्राप करता था. और वह दोनों हर छुट्टी के दिन घर पर कुछ न कुछ नया बहाना बनाकर घुमने जाते थे.

इसी तरह दोनों का प्यार परवान चढने लगा. दोनों घंटो तालाब के किनारे बैठकर. एक दुसरे से बाते किया करते थे. पर एक दिन उनके प्यार को जैसे किसी की काली नजर लग गई.

आकृति के मामाने उसे अहान के साथ बाइक पे घूमते हुए देख लिया था. और जब दुसरे दिन आकृति जॉब पर पहुची तब उसने दिन भर अहान से बाते नहीं की.

वो दिन भर आकृति की तरफ ही देख रहा था. पर आकृति ने उससे नजरें नहीं मिलाई. पर अहान ने उसकी आँखों में नमी देखली थी.

श्याम को पार्किंग एरिया में आकृति अहाना का ही इंतजार कर रही थी. और जब अहान ने उसे देखा. तो वह दौड़ते हुए उसके पास गया.

उसवक्त आकृति बोली अहान हमारा प्यार अब इससे आगे कभी नहीं जा सकता. तुम्हे मुझे हमेशा के लिए भूलना होगा. अहान की आंखे भर आयी थी. उसने पूछा पर क्यों.

तभी उसे पिछे से एक भारी आवाज सुनाई दी. मै बताता हूँ क्यों. वहां आकृति के मामाजी आये थे. वह बोले मैंने कल आकृति को तुम जैसे 2 रूपये वाले लड़के के साथ बाइक पे घूमते देखा था.

क्या औकात क्या है तुम्हारी?. मैंने उसकी शादी एक अच्छे परिवार के लड़के के साथ तय की है. और तुम ठहरे एक अनाथ. क्या मिलेगा उसे तुम्हरे साथ रहकर.

 जवाब में अहान सिर्फ इतना बोला. मै आकृति से सच्चा प्यार करता हूँ. और वह भी मुझे उतना ही चाहती है. आकृति सब खमोशी से सुनते हुए. निचे जमीन की तरफ देखकर फुट फुट कर रो रही थी. Emotional love story in hindi

वह अपने मामाजी के डर से अहान से आंखे भी नहीं मिला रही थी. कुछ ही देर में आकृति के मामाजी उसे वहां से ले गए.

और बेबस अहान उसे बस देखता ही रह गया. जब अहान अगले दिन ऑफिस पहुँचा. तब उसे पता चला की आकृति ने ऑफिस छोड़ दिया है.

फिर उस दिनसे अहान जैसे अन्दर से टूट गया था. उसका काम में मन नहीं लग रहा था. और कुछ दिनों बाद उसने ने भी ऑफिस आना बंद करदिया.

अहान अब अपने आप में खोया खोया रहने लगा था. वह जिन दोस्तों से रोज मिलता था. उनके पास से गुजरता. पर बाते नहीं करता था.

सभी दोस्तों में उसका एक सबसे अच्छा दोस्त था. राघव जिसे हेमशा अहान की चिंता लगी रहती थी. राघव को अहान को तकलीफ में देख नहीं सकता था.

इसलिए वह एक रातको उसके घर पर गया. पर वहां 12 बजे तक इंतजार करनेपर भी अहान नहीं आया. फिर उसने पड़ोसियों से पूछ ताछ की उन्होंने बताया की आजकल वह कभी कभी ही घर आता है.

और जब भी आता है. तब नशे में धुत होता है. राघव को इस सबकी जड तक पहुचना था. इसलिए दुसरे दिन सुबह सुबह उसने अहान के ऑफिस जाकर. उसके एक दोस्त से सारी बाते पता करली.

और किसी तरह आकृति का भी मोबाइल नंबर और घर का पता भी ले लिया. तभी इनसबके बिचमे एक अनोहोनी हो गई. उसे अहान के पड़ोसियों ने फ़ोन करके बताया.

अहान ने जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की है .पर हमने उसे हॉस्पिटल में एडमिट कर दिया है. यह सब सुनकर राघव हॉस्पिटल जाने के बजाय.

अपनी गर्लफ्रेंड को लेकर आकृति के घर गया. किस्मत से उसके घर पर कोई नहीं था. इसलिए आकृति को अहान के बारे सबकुछ बातने में मुश्किल नहीं हुई.

जब आकृति को अहान के आत्महत्या के बारे में पता चला. तो वह तुरंत उन दोनों के साथ हॉस्पिटल में पहूची. आकृति ने अपने मामा को एक सहेली के एक्सीडेंट के बारे में बहाना बनाके यकीन दिलाया.

और रात होने तक हॉस्पिटल में ही रुकी रही. और जब अहान ने आंखे खोली. तब वह रोते हुए उसके सिने से लिपट गई. और बोली मै भी तुम्हारे बिना अब जी नहीं सकती अहान.

फिर कुछ ही दिनों में दोस्तोकी मदत से दोनों ने शादी करली. और उसके बाद वह दोनों उस शहर में कभी नही दिखे.

उन्होंने अपनी जिंदगी के लिए. नया ठिकाना ढूंड लिया. और एक दुसरे में हेमेशा के लिए खो गए.

3) पहले चुम्बन की रोमांटिक प्रेम कहानी – Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

Cute And Romantic Couple kissing

 

अरुणा कॉलेज की लाइब्रेरी में अपने नोट्स बना रही थी. तभी उसकी जानी दोस्त शिखा भागते-भागते उसके पास आयी और बोली. ए अरुणा जल्दी जा तेरा अविनाश मैदान में खेलते वक्त अचानक चक्कर आने से गिर पड़ा है. इसलिए हमारे क्लास के लड़के उसे कॉलेज के पीछे वाली GYM में लगाये है.

अविनाश गाँव से शहर पढने आया एक मेहनती यूवक था. पहले दिन जब अरुणा ने अविनाश को देखा. तो उसका गोरा रंग उसकी मजबूत कद काठी और उसकी गाँव की मृदु भाषा सुनकर. वह उसपर अपना दिल हार बैठी.

दोनों में दोस्ती होने के बाद वह एक दुसरे के साथ वक्त बिताने लगे. अरुणा अविनाश को पागलो की तरह चाहती थी. पर वह अपने प्यार का इजहार अभी तक नहीं कर पायी थी.

अविनाश के बारे में खबर सुनते ही घबराहट के मारे उसकी जान आधी हो गई. उसने अपने नोट्स और बैग लाइब्रेरी में ही छोड़ दिया और. सीढियों से भागते-भागते. कॉलेज के पीछे पहुच गई. 

लेकिन उसे दिखाई दिया की. अविनाश बाहर बारिश में बाइक पर बैठा है? और अरुणा की तरफ दखते हुए. वही सादगी भरी मुस्कान दे रहा था. जिस  मुस्कान को देखते ही अरुणा के दिल को हमेशा सुकून मिलता था.

अरुणा उसके पास जाकर थोडासा गुस्से में बोली. ये कैसा मजाक है अविनाश आप तो यहा बारिश में बाइक पर आराम से बैठे है. और मुझे शिखाने बताया की आप चक्कर आने की वजह मैदान में गिरपडे थे.

मेरे तो बस प्राण ही निकलना बाकि थे. अरुणा की बात पूरी होते ही. अविनाश ने अपने बैग में से एक लाला गुलाब का फूल निकाला. और अरुणा के सामने एक घुटने पर बैठ गया. और बड़े प्यार से उसकी आँखों में आंखे डाल कर.

उसे I LOVE YOU कह दिया. पिछले 3 साल से अविनाश से अपने प्यार का इजहार सुनने के लिए. बेकरार अरुणा की आंखे I LOVE YOU सुनते ही प्यार के आसुओं से छलक गई थी.

फिर अरुणा ने भी अविनाश के हाथों से गुलाब लेकर I LOVE YOU TOO बोल दिया. और कसके उसके सिने से लिपट गई. उसवक्त अविनाश को अरुणा के दिल की धड़कने महसूस हो रही थी. फिर उसने भी उसे अपने दोनों हाथो से जी भर के गले लगा लिया.

अविनाश ने अरुणा से अपने सादगी भरे अंदाज में पूछा. बारिश के इस सुनाहने मौसम में क्या तुम मेरे साथ समुंदर किनारे सैर पर चलोगी? अपने पहले प्यार के इजहार के बाद वो अविनाश को कैसे मना कर सकती थी.

अरुणा राजी खुशी उसकी बाइक पर बैठ गई. कॉलेज से थोडासा दूर जाते ही अविनाश ने अचानक से बाइक रोक दी. और बोला अरे ये क्या जानू .अब तो मैंने प्यार का इजहार भी कर दिया है. तो जरा वो फ़िल्मी स्टाइल में बैठो ना.

वही पीछेसे कसकर पकडके. अविनाश के मुह से अपने लिए जानू ये शब्द सुनकर. अरुणा का तो जैसे सपना पूरा हुआ था. वह बाइक से उतरके फिरसे अविनाश के इछा अनुसार बैठ गई.

रिम-झिम बारिश में कुछ ही मिनीटो में दोनों समुद्र किनारे पहुचे. फिर दोनों ने साथ मिलकर एक बडेसे पत्थर के पीछे बैठने की जगह ढूंडी. जहा कोई उनके जिंदगी के प्यार भरे लम्हे में रूकावट ना डाल सके. 

बारिश के मौसम में विशाल समुंदर के सामने बैठे हुए. दो प्रेमियों का पहला प्यार धीरे धीरे परवान चढने लगा. और वह दोनों एक दुसरे की आँखों में खोने लगे.

फिर अविनाश बोला तुम मुझे बहुत पसंद हो अरुणा. तुम्हारी झील सी सुंदर आंखे, तुम्हारे ये रेशम जैसी सुंदर जुल्फे. वह अपने एक हाथ से अरुणा के बाल संवारने लगा.

ये गोरे-गोरे गाल और गुलाब की पंखुडियो जैसे गुलाबी ओठं. ओठं की तारीफ़ करते हुए. अविनाश अरुणा के ओठों पर बड़े प्रेम से उंगलिया फेरने लगा. फिर उसने धीरे धीरे उसे अपनी बाहों में भर लिया.

अब अविनाश अरुणा के इतने करीब था. की दोनों एक दुसरे के सांसो की गर्मी महसूस कर सकते थे. फिर अविनाश ने अपने ओठ अरुणा के ओठों पर रखदिए. और उसका चुम्बन लने में मशगुल हो गया.

अविनाश के प्यार में खुद को समर्पित कर चुकी. अरुणा ने उसवक्त अपनी आंखे बंद कर ली थी. और दोनों की सांसो की गर्मी के साथ अंतर आत्माए भी एक हो गई.

तो दोस्तों  आपको कैसी लगी ये Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi  इस पोस्ट में 5 दिल को छूनेवाली कहानिया लिखी है. जिसे पढने के बाद आपको इस दुनिया में सच्चा प्यार होने का एहसास होगा कमेंट  बॉक्स में जरुर  बताये  और मेरे ब्लॉग की और भी  बेहतरीन और बिलकुल नइ और मजेदार कहनिया जरुर पढ़े .

Thank you for reading. Please comment on this post. And do not forget to share this blog post with your love.

4) सागर किनारे दिल ये पुकारे Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

अमन समुंदर के गहरे पानी में डूबते सुनहरे सूरज को बड़ी खमोशी से निहार रहा था.

उसके मन को अकेले पण के एक एहसास ने घेर सा रखा था. तभी एक नशीली महक ने उसको मंत्रमुग्ध कर दिया. पल भर के लिए अमन को फूलों की वादियाँ में होने का एहसास हुआ.

तभी उस खुशबु की वजह ने उसका ध्यान खींच लिया. डूबते सूरज की लालिमा जैसी रौशनी में. उसे एक खुबसूरत अकेली बैठी लड़की दिखाई दी. जिसकी सुनहरी जुल्फे हवा के झोंके से बार बार उसके चेहरे पर आ रही थी.

जिनको वो बार बार सँवार रही थी. उस लड़की को दखते ही अमन का वह अकेले पण एक एहसास मानो दूर सा हो गया.

अमन कुछ समय के लिए उसे ही देखता रहा. फिर वह उस लडकी के पास गया. और पूछा क्या मै यहाँ पर बैठ सकता हूँ.

लडकी ने अमन की तरफ बिना देखे जवाब दिया. आप बैठ भी गए तो भी मुझे पता नहीं चलेगा. अमन बोला मै समझा नहीं. वह बोली क्योंकि मै कुछ भी देख नहीं सकती अंधी हूँ. 

अमन बोला फिर भी मै तुम्हारे साथ यहाँपर बैठना चाहता हूँ. क्या बैठ सकता हूँ?

वह बोली जरुर बैठिये. अमन ने पूछा क्या तुम यहाँपर रोज अति हो? वह बोली हाँ. ये समुंदर ही मेरे अकेलेपण का सहारा है. मुझे यहांपर आकार शांति मिलती है.

अमन को उसका वह आखरी लफ्ज़ “अकेलापन” उसकी जिदंगी से मिलता जुलता लगा.

अमन ने पूछा तुम्हारा नाम क्या है. उसने जवाब दिया . मीनाक्षी है मेरा नाम. फिर मीनाक्षी ने सवाल किया आप भी यहा रोज आते है?

अमन बोला नहीं मैं ने तो पहली बार समुद्र देखा है. मै इस शहर में ही नया हूँ. फिर अमन ने मीनाक्षी को अपना पूरा परिचय दिया. उसकेबाद सूरज ढलने तक दोनों ने खूब बाते की.

बाद मे मीनाक्षी उसकी पहचान वाले चाचा की ऑटो में बैठकर घर चली गई. मीनाक्षी अंधी है यह जानकर भी उसके प्रति अमन का प्यार तील मात्र भी कम न हुआ. उसके जहन में बस उसकी तस्वीर बैठ गई थी.

अमन एक अनाथ आश्रम में पला बड़ा लड़का था. पढाई पूरी करने के बाद वह नौकरी की तलाश में मुंबई आया था.

उसकी अब तक की जिंदगी अकेले पन में गुजरी थी. लेकिन मीनाक्षी को देखने के बाद उसे उसीमे ही अपनी पूरी दुनिया दिखाई देने लगी थी.

उस दिन के बाद वह दोनों रोज सागर किनारे ही मिलने लगे. दोनों एक दुसरे के करीबी दोस्त बन गए थे.

अमन मीनाक्षी को बे इन्तहा चाहता था. पर अपने प्यार का इजहार करने का. सही तरीका उसे मिल नहीं रहा था. मिनाशी भी हर श्याम सागर किनारे अमन का इंतजार करती थी.

वह खुद भी अमन को चाहने लगी थी. पर अपने अंधे पण से उसे डर भी लग रहा था. की अमन उसके प्यार को स्वीकार करेगा की नहीं.

इस कश मकश में दिन बीते रहे थे. एक सुबह अमन को अपने प्यार के इजहार का सही तरीका मिल गया.

वह श्याम को मीनाक्षी के लिए. एक गिफ्ट लेकर समंदर किनारे पंहुचा. मीनाक्षी अमन का ही इंतजार कर रही थी. वह उसके पास जाकर बैठा. और रोज तरह बाते शुरू कर दी.

और बातो ही बातो में अमन ने मीनाक्षी से कहा. मै ने आज तुम्हारे लिए. एक खास गिफ्ट लाया है. इतना कहकर अमन ने मीनाक्षी के हाथ में एक सुंदरसा ब्रेस लेट पहना दिया. 

मीनाक्षी के उस ब्रेसलेट पर हाथ की उंगलिया फेर ते हि वह अमन के सिने से लिपट गई. क्योंकि उस ब्रेसलेट पर ब्रेल लिपि में i love you लिखा था.

(ब्रेल लिपि- नेत्रहीनों लोगो की हाथ से छूकर पहचान ने वाली लिपि) 

अमन बोला हां मीनाक्षी मै तुमसे बहुत प्यार करता हूँ. और जीवनभर के लिए तुम्हारा साथ चाहता हूँ. क्या तुम दोगी मेरा साथ?

अमन से प्यार का इजहार सुनकर खुशी आसुओं ने मीनाक्षी के पलकों का दामन छोड़ दिया. और उसने हँसते-रोते ही अमन को हां बोल दिया.

अमन ने मीनाक्षी के माथे पर किस करके उसे अपनी बाहों में भर लिया.

5) पहली नजर का पहला प्यार – Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

कॉलेज का पहला दिन था. आदत अनुसार कॉलेज में जल्दी पहुचकर सूरज मेन गेट के पास दोस्तों का इंतजार कर रहा था. तभी 5 नंबर की बस गेट के सामने आकार रुकी.

और उसमे से एक खूबसूरत लडकी उतरी जिसका गोरा रंग भूरी आंखे सुनहरे बाल होठों पर लाली देखकर. सूरज अपने होश खो बैठा. वह इतनी सुंदर थी की. अगर वो अयिने में देखले तो आईना भी जलन से टूट के चकना चूर हो जाये.

कुछ पल के लिए सूरज उसे बस देखता ही रहा. वह बस से उतरी उसके पीछे पीछे सूरज के दोस्त उतरे. वहाँपर कुछ देर के लिए.दोस्तों में  गले मिलने का प्रोग्राम चला. क्योंकि सभी दोस्त बहुत दिनों बाद मिले रहे थे.

पर तब तक वह लड़की उसकी क्लास में जा चुकी थी. 

सूरज को अब पता करना था. की वह लड़की कौनसे क्लास में पढ़ती है. इस कश मकश में उसका ध्यान क्लास में नहीं लग रहा था.

उसके बाद दोपहर को जब सूरज कैंटीन में खाना खाने गया. तब वही लडकी उसे एक कोने में अकेली लंच करती दिखी. उसने बड़ी हिम्मत करके.

उसके टेबल के नजदीक जाकर पूछा. क्या मै यहांपर बैठ सकता हु? फिर उस लडकी ने जो जवाब दिया. वह उसके मासूम और भोले चहरे के बिलकुल विपरीत निकला.

वह बोली बैठो ना ये कैंटीन मेरे बाप की थोड़ी ही है? जहाँ चाहे वह बैठो. इतना बोलकर फिर से खाना खाने में व्यस्त हो गई. सूरज ने थोडासा हीच किचाते हुए. उससे पूछा तुम्हारा नाम क्या है?

पर अब वह हँसते हंसते बोली नीलिमा. नीलिमा है मेरा नाम. मै बस देखना चाहती थी. की मेरे गुस्से पर तुम क्या प्रतिक्रिया देते हो.

क्योंकि मेरा स्पेशल सब्जेक्ट मनोविज्ञान है ना इसलिए. उसके बाद वह लंच टाइम होने तक. सूरज के साथ बाते करती रही. उस दिन से सूरज और नीलिमा रोज एक साथ समय बिताने लगे.

वह एक दुसरे के काफी अच्छे दोस्त बन गए थे. सूरज नीलिमा को बहुत पसंद करता था. और ये बात उसे बताना चाहता था.

पर उसे डर था की कही दोस्ती भी न टूट जाये. एक दिन सूरज श्याम को कॉलेज की जिम से लेट बाहर निकला था.

और उसी दिन नीलिमा बस स्टॉप पर अकेली खड़ी थी. शायद उसकी बस मिस हुए थी. उसे देखते ही सूरज ने उसके सामने बाइक ले जाकर खड़ी कर दी. और बोला आओ नीलिमा तुम्हे तुम्हारी सोसाइटी तक छोड़ दू.

अगली बस 1 घंटे बाद थी. इसलिए वह भी इनकार न कर सकी. और सूरज के एक बार कहने के साथही आकार बाइक पर बैठ गई. उस वक्त सूरज ने पक्का ठान लिया की आज वह नीलिमा को प्रोपोज जरुर करेगा. 

इसलिए उसने रस्ते में एक कॉफ़ी शॉप पर बाइक रोक दी. नलीमा भी सूरज से बिना सवाल पूछे. उसके बाइक पार्क करने तक शॉप में जाकर बैठ गई.

उसके बाद अंदर जाते ही सूरज ने काउंटर पर दो कॉफ़ी आर्डर कर दी. और नीलिमा के बगल में जाकर बैठ गया.

थोडी देर तक दोनों एक लफ्ज भी नहीं बोले. बादमे सूरज ने धीरे से नीलिमा का हाथ अपने हाथ में लिया. और उसकी आँखों में आंखे डाल कर कहा i लव यू नीलिमा. मै तुम्हे बहुत चाहता हूँ.

जवाब में नीलिमा बोली तुमने सिर्फ तीन लफ्ज बोलने के लिए. पूरा साल मुझे इंतजार करवाया ना. मै भी तुमसे प्यार करती हूँ. इतना कहकर वह उसके सिने से लग गई. Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

भक्तिसागर

रोचक ब्लॉग पोस्ट 

सबसे अधिक लोकप्रिय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *