कक्षा १ के लिए लघु कहानियाँ | Short story for class 1 in hindi

Short story for class 1 in hindi यहां हम कक्षा १ के लिए लघु कहानियाँ साझा कर रहे है, जो पढने में काफी मनोरंजक है. इन कहानियों को हमने छोटे बच्चों की समझ को ध्यान में रखकर ही लिखा है.

1. जादुई खरगोश short story for class 1 in hindi

short story for class 1 in hindi

उसदिन चिंटू का रिजल्ट लगा था. उसके अच्छे नंबर नहीं आये थे.इसलिए वो नाराज और डरा हुआ था.वो श्याम को स्कूल छुटने के बाद अपना रिपोर्ट कार्ड लेके घर जाने के बजाय बगीचे में जाके बैठा.

और सोचने लगा की रिपोर्ट कार्ड अगर मम्मी पापा को दिखया तो वो बहुत नाराज होंगे.इसलिए मै आज घर नहीं जाऊंगा.उतने में एक खरगोश का एक बच्चा खेलते-खेलते उसके पास आजाता है.

चिंटू के पास बात करने के लिए कोई नहीं था. इसलिए वो उस खरगोश से बात करने लगता है. चिंटू बोला अगर मै आज ये रिपोर्ट कार्ड घरपे लेके गया तो पिताजी मुझे बहुत डाटेंगे और मार भी पडेगी.

तो आज मै घर पर नहीं जाऊंगा .वो खरगोश भी उसकी आँखों में देखते हुए सारी बाते सुनरहा था. तभी चिंटू रोने लगा .चिंटू को रोता हुआ देखके खरगोश अचानक बोलपड़ा उसने कहा तुम्हारे माता पिता तुम्हारे भले के लिएही तुम्हे डाटते है.

तुम्हे डाटके उन्हें कोई आनंद नहीं मिलता वो इसलिए डाटते है. की तुम पढ़ लिखकर एकदिन बड़े आदमी बन सको. वो तुम्हे बहुत प्यार करते है. अभी तुम घर जाव और अपने माता पिता को अपना रिपोर्ट कार्ड दिखाव.और उनसे वादा करो की अबसे तुम अच्छे मार्क्स लाओगे.

और खूब मन लगाकर पढना. खरगोश की बाते सुकर चिंटू घरपे चला गया और अभी वो हर परीक्षा में अच्छे नंबर से पास होता है. और कभी-कभी वो बगीचे में जाके अपने खरगोश दोस्त से भी मिलता है.

यह भी पढ़े Bal Katha In Hindi With Moral

2. जादुई गाय short story for class 1 in hindi

short story for class 1 in hindi

कृष्णनगर गाँव में सुदामा नाम का एक किसान रहा करता था. सुदामा बहुत नेकदिल और दुसरो का भला करने वाला था.वो मुसीबत में फसे लोगों की मदत करने के लिए हमेशा तय्यार रहता था.

एक दिन वो गाय चराने जंगल में गया था. हमेशा की तरह उसने सभी गायों को चरने के लिए जंगल छोड़ दिया. और जंगल की सुंदरता निहारते हुए टहलते-टहलते वो जंगल के अंदर तक गया चलते-चलते उसे अचानक किसी की दर्द भरी आवाज सुनाइ दी.

उसने आस पास देखा पर कुछ नहीं मिला तभी उसकी नजर घनी झाड़ियो पे पड़ी उसके पीछे एक बूढ़े बाबा जमीन पर पड़े हुऐ थे. सुदामा दौडते-दौडते उनके पास गया और बूढ़ेबाबा को सहारा देकर बिठाया.

बाबा भूक और प्यास से तडप रहे थे और बार-बार पानी-पानी बोल रहे थे .सुदामा ने कहा बाबा आप थोड़ी देर यही रुकिए मै कुछ करता हु.सुदामा के पास पानी और खाना दोनों नहीं था .पर उसे बाबा की मदत करनी थी.

उसको एक आईडिया सूझी. सुदामा ने पास के पेड़ से बड़े-बड़े पत्तोको तोड़ लिया. और उन्हें एक साथ जोड मोड़ के एक कटोरा बनाया.फिर उसमे अपने गाय का दूध निकलके लाया. और बूढ़े बाबा को पिला दिया.

गाय का ताजा दूध पीकर बाबा को राहत मिली. बाबा बोले तुमने मेरी जान बचाई है. मैं तुम्हे कुछ देना चाहता हु. और फिर बाबा ने कुछ मंत्र बोले और वहा एक गाय प्रकट होगई.

बाबा बोले बेटा इस गाय को संभलो ये जादू की गाय है.इस गाय का दूध देना कभी खतम नहीं होगा. ये गाय तुम्हे हमेशा दूध देती रहेगी.फिर सुदामा ने बाबा को प्रणाम किया और फिर बाबा जंगल में अपने रास्ते चले गए.

सुदामा ने नयी गाय को घर लाया.अगली सुबह सुदामा उसी का दूध निकलने लगा और चमत्कार गाय का दूध देना खतम ही नहीं हो रह था. सुदामा 6 घंटे दूध निकलता रहा. घर के बड़े बड़े बर्तन दूध से भर गए पर गाय ने दूध देना बंद नहीं किया.

फिर सुदामा थक कर बैठ गया. उसे लगा इतने सारे दूध का वो हर रोज वो करेगा क्या. फिर उसे एक कल्पना सूझी और वो निकले हुए दूध में से बहुत सारा दूध पास वाले अनाथ आश्रम के बच्चो को दे आया. इस तरह वो हर रोज अनाथ आश्रम और जरुरत मंदों की भूक दूध पिला के मिटने लगा.

यह भी पढ़े  Short Stories For Children In Hindi

3. जादुई स्कूल बैग short story for class 1 in hindi

short story for class 1 in hindi

ये कहानी है मीणा नाम की ८ साल की बच्ची की मीणा बहुत खुश रहने वाली और प्यारी लड़की थी. जून महीने में स्कूल चालू होने में सिर्फ २ दिन बच्चे थे.

और उसी दिन उसका बर्थडे भी था. उसने अपने पापा से कहा पापा पापा मुझे स्कूल की नई किताबे और स्कूल बैग चाहिए. पुराणी बैग फट गयी है.उसके पापा ने कहा हम श्याम को बैग लेन जायेंगे. ये सुनकर मीणा खुश होगई.

श्याम को पापा नौकरी से घर आने के बाद मीणा उनके साथ बाजार गई. वहा एक दुकान में बहुत सारे रंग बिरंगी स्कूल बैग थे.पर मीणा ने एक चमकते सुनहरे किनारों वाली ब्लैक एंड वाइट बैग को चुना.

पापा बोलो ये बैग तो रंगीन भी नहीं तो तुमने इसे क्यों चुना.मीणा बोली ये बैग सबसे अलग और अनोखा है. इसलिए उसने इस बैग को चुना. दुकानदार बोले ये बैग हमारे दुकान में वन पिस ही आया है.

हमें भी पता नहीं हमने ये बैग कौन से ठोक व्यापारी से ख़रीदा. फिर मीणा के पिताजी ने वो बैग खरीदा और मीणा बहुत खुश होगई.और बैग लेके वो दोनों घर आगये.

रात के खाने के बाद मीणा अपने बैग को देखने लगी.उसने बैग की पहिली चेन खोली. तो उसमे से उसे उसकी नई कक्षा की किताबे मिली. उसको लगा शायद मम्मी ने डाली होगी.

बादमे उसने दूसरी चेन खोली उसमे उसे कम्पास बॉक्स और कलर पेन्सिल मिली.और जब उसने तिसरी चेन खोली तो मीणा खुशीसे नाच उठी उसमे एक बहुत सुंदर गुडिया थी. वो उसी गुडिया से खेलते हुए बिस्तर पे सो गयी.

सुबह मीणा देर से उठी इसलिए मम्मी ने उसे जल्दी-जल्दी तैयार करके स्कूल में भेज दिया और मम्मी उसके बैग में बर्थडे का चॉकलेट बॉक्स रखना भूल गयी.

मीणा स्कूल में पहुंची तो उसे याद आया की वो मम्मी से चोकलेट का बॉक्स लेना तो वो ही भूल ही गयी. फिर वो स्कूल में आयी. और दोस्त उसे बिर्थ डे विश करने लगे. हैप्पी बर्थडे मीणा हैप्पी बर्थडे मीणा.

मीणा बैग से किताबे निकल रही थी. मीणा उसके मन में सोचने लगी की काश इस बैग में से अभी मुझे चोकलेट का बॉक्स मिलाता. तो में सब चोकलेट दोस्तों को बाटती.

तभी उसे बैग में एक सुनहरी रौशनी दिखी और मीणा के हात में एक बडा चॉकलेट बाक्स जदु से आया मीणा को आश्चर्य हुआ. उसने और एक विश मांगी वो बोली की मुझे अभी नया वाटर बोतल भी चाहिए.

दुबारा से एक सुनहरी चमक निकली और उसकी बैग में एक नेई वाटर बोतल आगई. तभी मीणा को समाझ में आया की रात को उसे जो चीजे और गुडिया कैसे मिली. वो इस जादू की बैग का कमाल था.

 आपको short story for class 1 in hindi कैसी लगी ये हमे कमेंट करके बताये और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

और कहानिया पढ़े

सबसे अधिक लोकप्रिय

Leave a Reply

Your email address will not be published.