What Is Share Market In Hindi

What Is Share Market In Hindi और इसमे निवेश की शुरुवात कैसे करे ?

Share Market Basic Knowledge In Hindi

1) What Is Share Market In Hindi ? शेयर बाजार का परिचय.

 स्टॉक मार्किट ऐसा मार्किट है जहाँ पर कंपनियों के हिस्सों की मतलब शेयर की खरेदी बिक्री (Trading) होती है। और ये खरेदी बिक्री जिस जगह होती है। उस जगह को स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) या स्टॉक मार्किट कहते है।

कोई भी कंपनी अपने (हिस्से) shares या फिर कहो stocks तभी स्टॉक एक्सचेंज में बेच (Trading) सकती है। जब वह कंपनी स्टॉक मार्किट में सूचीबद्ध (Listed) हो। तो आसन भाषा में कंपनीयो के शेयर्स की जिस जगह ट्रेडिंग होता है उसे स्टॉक मार्किट कहते है।

Share Market Basic Knowledge In Hindi
Share Market Basic Knowledge In Hindi

 

2) शेयर मार्किट क्या होता है ? What Is Share Market In Hindi ?

शेयर बाजार एक ऐसा बाजार होता है जहाँ पर निवेशक विविध सूचीबद्ध कंपनीज के शेयर्स खरीदी और बिक्री करते है.पहले खरीदी बिकवाली के लिए ट्रेडर और  निवेशकको शेयर बाजार में जाना पड़ता था मगर अभी ये सब प्रक्रिया  ऑनलाइन मोबाइल या कंप्यूटर से होता है.और खरेदी और बिकवाली करने वाले एक दुसरे को देख या पहचान नहीं सकते. 

Share का मतलब होता है। किसी कंपनी का हिस्सा और ये जिस जगह ख़रीदा और बेचा जाता है। उसे शेयर बाज़ार या share market कहते है। 2002 से पहले जिसको भी शेयर खरीदना होता था। उसे शेयर बाज़ार में जाके नीलामी में बोली लगनी पड़ती थी। या फिर उसे किसी बिचोलिये (Stock Broker) की मदत लेनी पड़ती थी।

2002 के बाद सभी चीजे ऑनलाइन होगई। अभी आप ख़ुद अपने मोबाइल से घर बैठे शेयर खरीद या बेच सकते हो। किसी भी कंपनी को जब पूंजी (Capital) की आवश्कता होती है। वह कंपनी अपने शेयर्स बाज़ार में लिस्टेड करके।

इछुक आम जनता पैसे (Capital) एकत्रित करती है। और बदले में उन्हें कंपनी में shares देके हिस्सेदार बनती है। भारत में दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)

3) What Is Share Market And There Types of share market in hindi ?

शेयर मार्किट के २ प्रकार होते है प्राइमरी शेयर मार्किट और सेकेंडरी शेयर मार्किट

A) प्राइमरी मार्किट (Primary market) : जब भी कोई भी कंपनी पहली बार अपने शेयर्स स्टॉक मार्किट में इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO-Initial public offer) के माध्यम से उतरती है। उसे प्राइमरी मार्किट कहते है। प्राइमरी मार्किट में निवेशक ऑनलाइन अप्लाई करके डायरेक्ट कंपनी से शेयर्स खरीदते है।

जब किसी भी कंपनी को पूंजी (Capital) की आवश्कता होती है। वो इनिशियल पब्लिक ऑफर (Initial public offering) के माध्यम से प्राइमरी मार्किट में शेयर उतरती है। एक Important बात Primary Market में व्यक्तिगत निवेशक सिर्फ़ 2 लाख तक निवेश कर सकता है। मतलब इसमे आप सिर्फ़ 2 लाख तक ही शेयर्स खरीद सकते हो। प्राइमरी मार्किट में शेयर्स के दाम (Price) पहले से ही Fix होते है।

B) सेकेंडरी मार्किट : primary market  में कंपनी शेयर्स बेचने के बाद उन सभी शेयर्स की रोज़ खरेदी और बिकवाली (Trading) जिस market में होती है उसे secondary market कहते है। Secondary मार्किट में शेयर्स की खरेदी बिकवाली के लिए आपको Stock broker की ज़रूरत पड़ती है। सेकेंडरी मार्किट में शेयर्स भाव बदलता रहता है। सेकेंडरी मार्किट को capital market भी कहते है।

Share Market Basic Knowledge In Hindi

WHAT IS SHARE MARKET IN HINDI विकिपीडिया 

4) शेयर मार्किट में निवेश की शुरुवात कैसे करे? 

स्टॉक मार्केट निवेशके लिए Stock Broker का चयन और ज़रूरी Accounts

A) स्टॉक ब्रोकर: स्टॉक मार्किट में निवेश के लिए आपको ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट की ज़रूरत होती है। और ये दोनों अकाउंट की सुविधा एक Stock broker Provide करता है। कोई भी व्यक्ति स्टॉक एक्सचेंज से Direct शेयर्स नहीं खरीद सकता। भारत में बहुत से स्टॉक ब्रोकर Available है। जो ऑनलाइन Account Opening की भी सुविधा देते है।

B) ट्रेडिंग अकाउंट क्या है? :शेयर बाज़ार में शेयर्स की खरीदी और बिकवाली जिस अकाउंट के माध्यम से की जाती है उसे trading account कहते है। शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग करने के लिए जो पैसे लगते है। वह ट्रेडिंग अकाउंट में रखने पड़ते है। trading account में रखे हुए पैसो पर आपको कोई भी ब्याज (Interest) नहीं मिलता। 

C) डीमैट अकाउंट क्या है:  शेयर्स खरीदने के बाद उन शेयर्स को आपके पास रखने के लिए। जिस खाते की ज़रूरत होती है उसे D MAT ACCOUNT कहते है। आपके खरीदे हुए शेयर्स D MAT में इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में रखे जाते है। डीमैट अकाउंट में सिर्फ़ शेयर्स रखे जाते है पैसे नहीं।

5) Stock Broker के पास Account खुलवाने के लिए किन चीजो की आवश्कता होती है?

a). इन्टरनेट बैंकिंग (Internet banking) : आपके पास Bank का खाता होना चहिये। जिसकी Internet banking सर्विसेस Active हो। आपके trading account में पैसे online ट्रान्सफर करने के लिए Internet banking की ज़रूरत पड़ती है। वह पैसे आपके ट्रेडिंग अकाउंट में ही रहते है। और जो बैंक अकाउंट आप ट्रेडिंग अकाउंट के साथ जोड़ोगे उसी अकाउंट में भविष्य में आपका Dividend डिविडेंड ऑनलाइन Deposit होता है।

b). केवाईसी (KYC)  डॉक्यूमेंट:  KYC का फुल फॉर्म Know your customer है। कोई भी बैंक यह broker कंपनी ग्राहकों की पहचान रखने के लिए कुछ Documents उनसे लेता है। और ये Document समय-समय पर अपडेट भी करने पड़ते है। KYC करने के लिए आपको पहचान पत्र और रहने के ठिकाने का Address प्रूफ सबमिट करने पड़ते है।

c). पैन कार्ड: स्टॉक मार्किट में निवेश करने के लिए Pan Card होना अनिवार्य है। pan card का फुल फॉर्म पेर्मनंट अकाउंट नंबर होता है। जिसे भारत का आयकर विभाग जारी करता है। INDIA में पैसे की लेनदेन में PAN CARD की आवश्कता होते है।

6) स्टॉक मार्किट में आपको निवेश की शुरुवात करने के लिए आपको कितने रुपए-पैसे की ज़रूरत पड़ेगी? What Is Share Market In Hindi ?

जब कोई भी व्यक्ति शेयर बाज़ार में निवेश करने के बारे में सोचता है। तब उसके मन में सबसे पहले ये खयाल आता है। की कम से कम कीतेने रुपए-पैसे की ज़रूरत पड़ेगी? (minimum investment) और ट्रेडिंग अकाउंट में कितन बैलेंस रखना होगा। तो इसका जवाब आसन है।

स्टॉक मार्किट में शुरुवात में कम से कम कोई अमाउंट fix नहीं है। आप 100 रुपये या 500 रुपये से भी शुरुवात कर सकते हो। और रही बात ट्रेडिंग अकाउंट की उसमे कोई मिनिमम अकाउंट बैलेंस नहीं रखना पड़ता।

Share Market Basic Knowledge In Hindi

What Is Share Market In Hindi

7) स्टॉक मार्किट में शेयरखरीदने और बेचने की शुरुवात कैसे करे?

स्टॉक मार्केट में ब्रोकर के पास खाता खुलवाने के बाद शुरूवात में ये बात सबके मन में अति है के शेयर(Trading) खरेदी और बिक्री की शुरुवात कैसे करे? तो इसका जवाब आसन है |Technology और Internet की इस दुनिया में अब शेयर खरीदना और बेचना(Buying And Selling) Smartphone से Facebook और WhatsApp पर chatting करने जितना आसान है|

सभी stock broker companies के पास कस्टमर सर्विस के लिए मोबाइल ट्रेडिंग ऐप की सुविधा जरुर होती है |और अगर आप कंप्यूटर से trading करना चाहेगे तो उसके लिए Trading Software होते है|

share market kya hota hai
share market kya hota hai

 

 

 

 

 

 

 

🙂 इंडिया के बेस्ट स्टॉक ब्रोकर के पास अपना ट्रेडिंग और डीमेट अकाउंट खोले और शेयर बाजार में निवेश की शुरुवात करे क्लिक हियर 😛

कुछ ब्रोकर अपने अकाउंट होल्डर्स के लिए ट्रेनिंग भी provide कराती है और ब्रोकर कंपनी के` वेबसाइट पर ट्रेडिंग टुटोरिअल भी उपलब्ध होते है|सबसे बड़ी बात आप ब्रोकर को कॉल करके ट्रेडिंग करने का आर्डर भी दे सकते हो|

8) शेयर(Shares) के प्रकार क्या है और कौनसे शेयर्स खरीदने चाहिए?

शेयर के मुख्य दो प्रकार जिनकी जानकारी का आपको उपयोग होगा।

a) (EQUITY) इक्विटी शेयर्स: इक्विटी शेयर्स ही सबसे महत्त्वपूर्ण शेयर है जो आप खरीदने वाले है। और जिसके बारे में न्यूज़ और हर जगह बात होती है। इक्विटी शेयर्स: को आर्डिनरी शेयर्स भी कहते है। जब आप किसी भी कंपनी के इक्विटी शेयर्स खरीदेंगे आप उस कंपनी के इक्विटी शेयर होल्डर बनजाते हो।

इक्विटी शेयर होल्डर के अधिकार और फायदे:

1) EQUITY शेयर होल्डर ही कंपनी के असली मालिक होते है।
2) EQUITY शेयर होल्डर अपने शेयर्स कभी भी बेच सकते है।
3) EQUITY शेयर होल्डर को कंपनी में वोटिंग का अधिकार भी होता है
इस आर्टिकल में जो भी कुछ है वह इक्विटी शेयर्स के बारे में ही है इसीको आप खरीदने बेचने वाले है।

b) Preference Shares: परेफरेंस शेयरस कंपनी के चुनिन्दा निवेशक और प्रमोटर्स को जरिकिये जाते है। परेफरेंस शेयरस होल्डर को वोटिंग राइट्स नहीं होते।

9) शेयर बाज़ार में निवेश करने के फायदे ? What Is Share Market In Hindi ?

1) कम अवधि में ज़्यादा मुनाफा (Short term investment) : शेयर बाज़ार एक ऐसा पैसा कमाने का रास्ता है। जहा पैसे से पैसा बनाया जाता है। पर आपको इसके लिए अनुशासन और अभ्यास की ज़रूरत है। सही कंपनी के शेयर ढूंड के उनमे निवेश करना एक कला है।

अगर इसमे अपने महारत हासिल करली तो आप कम समय में ज़्यादा मुनाफा कमा सकते है। हम इसे एक उदहारण से समझते है। अगर आपने Rain Industries Company मैं 9 जनवरी 2017 को अपने 1 लाख का निवेश किया तो ठीक 13 नोव्हेंबर 2017 को वह रक्कम बढ़के सात लाख बयालीस हज़ार रुपये हो जाती बस आपको सही अभ्यास करके अनुशासन के साथ निवेशित रहना होगा। बाज़ार के उतार चढ़ाव से विचलित नहीं होना। डर के कभी शेयर बेचने नहीं होंगे। Rain Industries Company का स्टॉक मार्किट चार्ट जरुर देखना | शोर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट बेनेफिट्स 

share bazar in hindi
share bazar in hindi

2) शेयर बाज़ार में लम्बे अवधि के लिए निवेश करने के फायदे: शेयर बाज़ार में लम्बे अवधि के लिए निवेश करके इस दुनिया में बहुत से लोग आमिर बने है। अगर आपको भी आमिर बनाना है तो लंबी अवधि के लिए निवेश करे। LONG TERM इन्वेस्टमेंट एक संपत्ति होती है। कंपनी से आपको डिविडेंड, राईट इशू और बोनस शेयर्स जैसे फायदे मिलते है। चलिए लम्बी अवधि के निवेश को एक उदाहरन से समझ ते है

हम Titan Ltd कंपनी का उदाहरन लेते है। 2003 में टाइटन कंपनी के एक शेयर की Price 3 / -Rupee थी और आज टाइटन कंपनी की price 1137.65 है। तो अगर 2003 में टाइटन कंपनी में आपने एक लाख रुपये का निवेश किया होता तो आज उसकी क़ीमत तीन करोड़ अठहत्तर लाख निन्यानवे हज़ार छह सौ इक्कीस रूपये होती।और इसके तरफ़ बहतु से उदहारण है।

3) शेयर्स से मिलने वाला लाभांश (Dividend) : लाभांश यानिकी कंपनी को जब लाभ होता है। तो कंपनी सभी शेयर होल्डर्स को उसमे हिस्स्सा देती है। ये लाभांश (dividend) tax free )होता है।

उदाहरन:-अगर आपके पास Balrampur Chini Mills Ltd कंपनी के 1000 शेयर्स है। और कंपनी ने पर शेयर 4 / -Rupee डिविडेंड जारी किया तो आपको 1000 x 4 =4000 / -रुपये डिविडेंड आपके खाते में जमा कर दिया-दिया जायेगा।

4 )Bonus shares: जब कभी किसी भी कंपनी का कारोबार बहुत अच्छे ढंग से चलता है। और उस कंपनी के पास लाभ एकत्रित करके एक बड़ी धन राशी तैयार हो जाती है। तब वह कंपनी उस अतिरिक्त लाभांश को कैपिटल यानिकी पूंजी में परिवर्तित करती है कंपनी अपने शेयरहोल्डर को बोनस शेयर देती है।

सबसे बढ़िया बात बोनस शेयर के बारे में बोनस शेयर फ्री में मिलते है। जब कभी कोई भी कंपनी बोनस शेयर देने वाली होती है। तब उस कंपनी के शेयर प्राइस बढ जाती है। बोनस शेयर हमेशा अनुपात (ratio) में दिया जाता है। इस को उदाहरन के माध्यम से समझ ते है।

share bazar kya hai
share bazar kya hai

 

 

 

 

 

 

 

ABC कंपनी ने इस साल 1: 1 अनुपात (RATIO) में बोनस शेयर जारी किया है। इसका मतलब है किसी भी शेयर होल्डर के पास अगर ABC कंपनी का 1 share है तो abc company की और से उसके D MAT ACCOUNT 1 और शेयर जमा कर दिया जायेगा। share bazar in Hindi

5 )राईट इशू (Right Issue) : जिस किसी भी कंपनी के शेयर्स स्टॉक मार्किट में पहलेसे लिस्टेड होते है। सिर्फ वही कंपनी राईट इशू लाती है। जब किसी भी कंपनी को कर्ज़ चुकाने के लिए या कंपनी का कारोबार बढ़ने के लिए अतिरिक्त धन की आवश्कता होती है। तब कंपनी मार्किट में अपना राईट इशू (Right Issue) जारी करती है।

कंपनी जब राईट इशू की घोषणा करती है। तब उस कंपनी के शेयर धारको के पास सस्ते दमोमे शेयर खरीदने का अच्छा अवसर होता है। राईट इशू निश्चित अनुपात Ratio में दिया जाता है। अगर XYZ ltd कंपनीने राईट इशू 1: 3 अनुपात में जारी किया है। तो अगर कंपनी के किसी भी शेयर धारका के पास अगर 3 शेयर है। तो उसे 1 शेयर सस्ते दामो पर खरीदने का अवसर मिलेगा

What Is Share Market In hindi. इस पोस्ट में हमने जाना की शेयर बाजार क्या है  और ये किस प्रकार कम करता है .इसके प्रकार कितने है .निवेश की शुरुवात करने के लिए कितने रुपयों की आवश्कता है. कमेंट करके जरुर बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी और शेयर बाजार के सन्दर्भ में अप्प क्या जानना चाहते हो .धन्यवाद .

 

Read More Artical

What Is Artificial Intelligence In Hindi

PM ROJGAR YOJANA ONLINE REGISTRATION 2020

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *