heart touching sad love story in hindi

पहले प्यार की आखरी दास्तान | HEART TOUCHING SAD LOVE STORY IN HINDI

पहले प्यार की आखरी दास्तान | Heart touching sad love story in hindi

यह तब की बात हैं जब मैं सुनील 1st ईयर कॉलेज में पड़ता था। जब मैं बैंगलोर में अपने घर के बाहर अपने दोस्तो के साथ बात कर रहा था, तभी मैंने एक लड़की को देखा। वह दिखने में तो औसत ही थी पर वह काफी आकर्षक थी न चाहते हुए भी उसकी तरफ मेरी नज़र चला ही जा रहा थी। सच्ची कहानी पढ़ने के लिए यह भी पढ़े  Real Life School Love Story In Hindi

उस लड़की का नाम प्रिया था वह हमारे एरिया में नई – नई आयी थी। क्योंकि वह हमारी पड़ोसी थी तो मेरी और उसकी मुलाकात आँखों ही आँखों में हो जाती थी, पर हमने अभी तक बात नहीं की थी।

हमारी मुलाकात अक्सर शाम को छत पर हुआ करती थी और रविवार को तो मैं ज्यादा समय छत और बालकनी पर ही रहता था।

इस उम्मीद से की प्रिया छत पर आएगी तो उसे देख सकूँगा मैं भी उसे देखा करता और वह भी मुझे देखा करती थी। वक़्त ऐसे ही बीतता गया मैं प्रिया की ओर आकर्षित होने लगा था।

एक दिन मेरी माँ प्रिया की मॉम से बात कर रही थी। उस दिन मैंने भी पहली बार प्रिया से बात की थी।

कुछ मैंने प्रिया को अपने बारे में उसे बताया कुछ उसने अपने बारे में मुझे बताया इस तरह धीरे – धीरे हमारी अच्छी दोस्ती हो गई। एक दिन प्रिया ने मुझसे ऐसे ही पूछ लिया की तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड हैं।

तो मैंने उसे बताया की एक लड़की थी। जो मुझे बहुत पसंद थी। पर उस लड़की ने मुझे धोखा दिया। वो बस मेरा इस्तेमाल कर रही थी उसने मेरा दिल तोड़।

और प्रेम कहानी पढे – सच्चे प्यार की चाहत

इस पर प्रिया ने मुझे दिलासा दिया और कहा कि सब ठीक हो जाएगा। मैं बहुत खुश था की मुझे प्रिया मिल गई थी। जो मुझे समझती थी, उस दिन के बाद से मैं उस शाम के बारे में सोचने लगा कि क्या मैं जो प्रिया के लिए महसूस करता हूँ वह प्रिया भी मेरे लिए महसूस करती हैं या नहीं, या वह मुझे सिर्फ दोस्त के नज़रिये से देखती हैं।

हमने एक साथ काफ़ी अच्छा वक़्त साथ बिताया था, मेरा प्रिया के घर भी आना जाना था, हम हमेशा साथ रहते थे।यह तो निश्चित था वह मुझे अपना बेस्ट फ्रेंड मानती थी लेकिन मैं गहराई से जानता था कि वह वास्तव में मेरे बारे में क्या महसूस करती हैं।

एक दिन की बात हैं जब प्रिया का मॉम डैड किसी रिलेटिव के फंक्शन में अटेंन्ड करने के लिए उनके घर गए थे।उस दिन प्रिया और उसका छोटा भाई घर पर अकेले थे, मैं हिम्मत करके उस रात प्रिया के घर चला गया।

जब वह छत पर थी उस रात मैं उसे बताना चाहता था कि मैं उसे देखना चाहता हूं उसके साथ वक़्त बिताना चाहता हूँ।

उस रात मैं प्रिया के साथ बैठकर सितारों को देख रहा था और हमने खूब बातें की उसके घर में डिनर तैयार करने में प्रिया की मदद किया। फिर हमने साथ में डिनर किया वह रात मेरे लिए बहुत ही खूबसूरत था।

मैंने प्रिया की आँखों में देख कर और उसकी बात सुनी कि उसका सपना क्या हैं यह जाना।

पहले प्यार की आखरी दास्तान | Heart touching sad love story in hindi

वह कैसे शादी करना और घर बसाना चाहती हैं। उस समय ऐसा लग रहा था की मैं उसे आपने दिल की बात कह दू पर यह बहुत जल्दबाज़ी हो जाता तो मैंने नहीं कहा। मैं बस इतना कर सकता था कि उसे अपना सपना बताऊं और उसके बगल में बैठ जाऊं।

पर मैं अपने दिल की बात नहीं कह सका और बिना इज़हार किये ही घर चला आया। मैंने उसे नहीं बताया कि मैं कैसा महसूस कर रहा हूँ उसके लिए और वह क्या मायने रखती हैं मेरे लिए।

मैंने कई बार इस बारे में मैं उसे बताना चाहा पर हिम्मत नहीं जुटा सका क्योंकि डर था वह मुझे रिजेक्ट कर मुझसे दूर न हो जाए। ग्रेजुएशन के बाद प्रिया आगे की पढ़ाई के लिए लंदन चली गई जहां उसके ताऊजी रहते थे, मैं उसके लिए खुश था, लेकिन साथ ही उसे जाते हुए देखकर मैं बहुत दुःखी था।

मैं दुखी था क्योंकि मैंने उसे नहीं बताया कि मैं उसे बहुत प्यार करता हूँ और उसके बिना अब मेरा यहाँ दिल नहीं लगेगा।

मैंने प्रिया को जाने से पहले अंतिम बार उसे अलविदा मेरी आँखे नम थी मैं अंदर ही अंदर रोया और प्रिया को अंतिम बार अलविदा कहा।

ग्रेजुएशन के बाद मुझे अब और स्टडी करने का मन नहीं हुआ और मैं अपने पिता जी के बिज़नेस में हाथ बटाने लगा।

मैं किसी भी तरह खुद को व्यस्त रखने की कोशिश करने लगा, करीब डेढ़ साल बाद एक दिन मुझे शादी के निमंत्रण के साथ एक पत्र मिला।

यह लेटर प्रिया का ही था, मैं हैरान था की प्रिया इतनी जल्दी शादी कर रही हैं वह तो स्टडी करने गई थी।

और प्रेम कहानी पढे – School Life Ki Adhuri Prem Kahani

Heart touching sad love story in hindi

मैं पूरी तरह टूट कर बिखर गया अब मैं जान गया था की प्रिया अब कभी मेरी नहीं ही सकती है। मैं खुद को बहुत कोष रहा था मैंने अपने दिल की बात क्यों नहीं कहा।

पर किसी तरह मैं उसकी शादी में गया क्योंकि मैं उसे माना नहीं कर सकता था। वह दिन प्रिया के लिए बड़ा अवसर था शादी भव्य था सभी का स्वागत हुआ।

मैं दुल्हन बनी प्रिया से मिला और निश्चित रूप से मुझे उससे एक बार फिर से प्यार हो गया। प्रिया को मैंने पहली बार इतनी खूबसूरत रूप में देखा था वह बहुत ही सुन्दर लग रही थी।

पर न जाने उसके चेहरे में वो खुशी नहीं दिख रही थी। मैंने उस रात मस्ती करने की कोशिश की, लेकिन यह मुझे अंदर से मार रहा था और उसे किसी और का होते हुए देख रहा था।

मैं खुश होने की कोशिश कर रहा था, मेरे अंदर मेरे दुख के आँसू थे। मैंने प्रिया और उसके होने वाले हसबेंड को बधाई दी कुछ देर बस प्रिया को देखता रहा फिर मुझसे रहा नहीं गया और शादी पूरी हो गई। मैं भी टुटा हुआ गुजरात से उसी दिन ही बैंगलोर के लिए निकल गया।

मैं घर आया और बस यह भूलने की कोशिश की कि गुजरात में क्या हुआ। साल बीतते गए पर हम दोनों संपर्क में थे, हम एक दूसरे का हाल चाल पूछा करते थे।

एक दिन मैंने प्रिया को मैसेज किया पर जवाब नहीं मिला फिर कुछ दिन बाद मैंने कॉल किया इसका भी कोई जवाब नहीं आया।

मैं चिंतित हो रहा था कि उसने आज तक पहले कभी ऐसा कुछ नहीं किया था।

मैंने उसे कई बार कॉल्स और व्हॉट्सएप्प पर मैसेज भी किया पर जवाब नहीं मिला। मेरे जीवन में सब कुछ निराशाजनक और उदास लग रहा था, एक दिन मुझे एक अंजान ईमेल मिला जिसमें कहा गया था “मुझसे उस जगह पर मिलो जहां हम कॉलेज में मिलते थे जहां हम चीजों के बारे में बात करते थे नीचे प्रिया का नाम था।

heart touching sad love story in hindi

मैंने जाकर उसे वहां देखा मैं उसे देखकर खुश था, लेकिन वह अंदर से टूटी हुई और उदास लग रही थी। उसने मुझे देखते ही गले लगा कर रोने लगी मैं समझ गया कुछ तो गलत हुआ हैं।

फिर उसने मुझे तलाक के बारे में बताया और उसने लंबे समय तक क्यों मैजेस और कॉल जवाब नहीं दिया इस बारे में भी बताया।

उसने बात करते हुए ख़ुद के आँशु को रोकने की कई बार नाकाम कोशिशे की और अंत में रो ही दिया। अंत में मैंने उसे अपने घर चलने को कहा क्योंकि उसके फॅमिली अब अपने पुस्तैनी घर गुजरात में रहते थे।

घर आकर माँ से मिली और प्रिया से बात की और पुराने समय को हम दोनों याद करने लगे।

मैं प्रिया के साथ जो हुआ उसके लिए दुःखी तो था पर अंदर से एक खुशी भी था की मेरी प्रिया आज फिर से मेरे साथ हैं। वक़्त के साथ धीरे – धीरे प्रिया भी दर्द से बाहर आ गई।

फिर मैंने एक दिन सोच लिया अब तो मैं प्रिया से अपने दिल की बात बता कर ही रहूँगा क्योंकि 5 दिन बाद उसका जन्म दिन था। मैं जन्म दिन की तैयार करने लगा उसे सरप्राइज देने के लिए।

Heart touching sad love story in hindi

एक दिन मुझे प्रिया के नंबर से फोन आया पर वह प्रिया की आवाज नहीं थी कोई अंकल थे और उसने जो बताया एक पल के लिए मेरी सांसे रुक सा गया। उन्होंने कहा कि क्या आप प्रिया को जानते हो मैंने कहा हां जनता हूँ।

फिर उसने कहा प्रिया जी का कार एक्सीडेंट में डेथ हो गया हैं आप हॉस्पिटल आ जाये और इनके फॅमिली को भी इन्फॉर्म कर दे।

इनके फोन से लास्ट काल आपको गया था इसलिए मैंने आपको कॉल किया। इससे मेरा दिल टूट गया मैं रोने लगा और सोचने लगा आज ही तो सुबह ही कॉल पर बात हुआ था और अब कहते हैं प्रिया नहीं रही ऐसा नहीं हो सकता।

मैंने सबसे पहले प्रिया के मॉम डैड को कॉल पर बताया फिर भागता हुआ हॉस्पिटल पहुंचा।

मैं पूरी तरह टूट चूका था मैं उस रात खूब रोया, दुख और दिल के दर्द के आँसू रोया और रात भर सो नहीं पाया। आज प्रिया हमारे बीच नहीं रही पर आज भी मुझे उसकी याद आती हैं।

क्योंकि आज भी मैं प्रिया को बहुत प्यार करता हूँ। पर शायद हमारा साथ यही तक था जीवन के सबसे कड़वे सच मौत को भी स्वीकार्य करना ही था मुझे।

यह था मेरी और प्रिया की दिल को छू लेने वाली दुखद प्रेम कहानी आशा करते हैं आपको यह पसंद आया होगा आपको यह कैसा लगा नीचे कमेंट में जरूर बताये।

साथ ही आप really heart touching love story in hindi को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया में भी शेयर जरूर करें। अगर आप हमसे जुड़ना चाहते हैं तो इसके लिए आप हमारे Social Media अकॉउंट Facebook या इंस्टाग्राम को लाइक या फॉलो भी कर सकते हैं।

लेखक के विषय में :- यह आर्टिकल सुनील कुमार द्वारा लिखा गया जो की heartbeatsk.com ब्लॉग के लेखक हैं। साथ ही सुनील कुमार जी एक प्रोफेशनल कंटेंट राइटर हैं जो विभिन्न विषयो पर लेख लिखते हैं। यह LikeHindi.com पर लिखा गया हमारा पहला गेस्ट पोस्ट हैं। आशा करते हैं आप सभी को हमारा लेख पसंद आया होगा। अधिक जानकारी लिए हमारे ब्लॉग पर विजिट अवश्य करें धन्यवाद।

और प्रेम कहानी पढ़े :

दिल छूनेवाली प्रेम कहानियाँ – Cute And Romantic Heart Touching Love Story In Hindi

सबसे अधिक लोकप्रिय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *