मंगल भवन अमंगल हारी भजन लिरिक्स श्री रामचरित मानस की चौपाइयाँ हैं, इसे स्वर दिया है मीनाक्षी जी मजूमदार ने और और संगीत दिया है

और पढ़े